‘इंटरनेट’ को संभव बनाने वाले नोबेल पुरस्कार विजेता चार्ल्स काव का निधन

 हांगकांगः चाइनीज यूनिर्विसटी ऑफ हांगकांग के पूर्व कुलपति व ऑप्टिकल फाइबर टेक्नोलॉजी के लिए 2009 में भौतिकी का नोबेल पुरस्कार जीतने वाले  चार्ल्स के. काव (84)  का रविवार को निधन हो गया। काव अल्जाइमर्स से पीड़ित थे। हालांकि अभी तक काव के निधन के कारणों की पुष्टि नहीं हुई है।  काव आईटीटी कोर में अनुसंधानकर्ता थे। 1966 में काव और उनके सहकर्मी ने एक शोधपत्र प्रकाशित किया था जिसमें कहा गया था कि शुद्ध ग्लास फाइबर का इस्तेमान संचार माध्यम के रूप में किया जा सकता है।

इस तकनीक ने नव-विकसित लेजर के साथ मिलकर संचार उद्योग को बढ़ावा दिया। ‘द साऊथ चाइना मार्निंग पोस्ट’ ने अपने संपादकीय में कहा कि काव के कामकाज ने ‘इंटरनेट’ को संभव बनाया। नोबेल फाउंडेशन की ओर से जारी जीवनी के अनुसार,  चार्ल्स कुएन काव का जन्म चार नवंबर, 1933 को शंघाई में हुआ था। उनकी मां कवयित्री थीं जबकि पिता अमेरिका में शिक्षित एक न्यायाधीश थे। उनका परिवार 1948 में हांगकांग आया, जहां काव ने अपनी हाई स्कूल की शिक्षा पूरी की। उन्होंने लंदन के वूलविच पॉलिटेक्निक से इलेक्ट्रीकल इंजीनियरिंग की शिक्षा पूरी की।   काव 1987-96 तक चाइनीज यूनिर्विसटी ऑफ हांगकांग के कुलपति रहे थे। 

Related Stories:

RELATED इस महिला वैज्ञानिक को 55 सालों बाद मिला नोबेल पुरस्कार