लाभ बढ़ाने की आगे की राह मुश्किल: स्कोडा इंडिया

पुणेः भारत में निवेश की बड़ी योजना के साथ तैयार चेक गणराज्य की कार विनिर्माता कंपनी स्कोडा इंडिया का कहना है कि भारत में उसके लाभ की स्थिति फिलहाल ‘बहुत ठीक’ नहीं है और आगे की राह भी ‘कठिन‘ है। कंपनी ने देश में 8,000 करोड़ रुपए के निवेश की योजना पर कार्य शुरू कर दिया है। इंडिया 2.0 के तहत इसने पुणे में एक नया प्रौद्योगिकी केंद्र शुरू किया है।

कंपनी ने बताया कि वह ‘इंडिया 2.0’ परियोजना के तहत यह निवेश करेगी। इसका मकसद स्कोडा की मातृ कंपनी फॉक्सवैगल समूह की देश में स्थिति मजबूत करना है। इसके लिए दोनों कंपनियां एमक्यूबी ए0 आईएन ढांचे पर नए उत्पाद पेश करेगीं। यह प्लेटफार्म भारतीय बाजार की दशाओं को देखते हुए खस तरह से विकसित किया गया है। मार्च 2018 में समाप्त वित्तीय वर्ष में स्कोडा ऑटो इंडिया शुद्ध लाभ 66.21 प्रतिशत घटकर 22.18 करोड़ रुपए रहा। वित्त वर्ष 2016-17 में कंपनी का शुद्ध लाभ 65.65 करोड़ रुपए था। 

फॉक्सवैगन समूह के भारतीय कारोबार के प्रमुख गुरप्रताप बोपारई ने कहा, ‘‘ हमारे सामने आने वाले कुछ साल कठिनाई भरे हैं। कंपनी के लाभ की स्थिति उतनी ठीक नहीं है। हम अपने कारोबार को और अधिक प्रभावी तरीके से चलाने के लिए सर्वश्रेष्ठ प्रयास कर रहे हैं।’’ 


 

Related Stories:

RELATED लाभ बढ़ाने की आगे की राह मुश्किल: स्कोडा इंडिया