‘नहीं थम रही गुंडागर्दी’ ‘राजनीतिज्ञों और उनके सगे-संबंधियों की’

2021-07-14T02:32:55.51

सत्ता से जुड़े चंद लोगों, राजनीतिज्ञों और उनके परिजनों से आशा की जाती है कि वे कोई भी कानून विरोधी कार्य नहीं करेंगे और आम लोगों की मुश्किलें सुलझाने में मदद करेंगे, परंतु आज यही लोग बड़े पैमाने पर दबंगई तथा गलत कामों में शामिल पाए जा रहे हैं, जिसके मात्र एक महीने के उदाहरण निम्र में दर्ज हैं : 

* 13 जून को एक ठेकेदार द्वारा अपना काम सही ढंग से न करने से नाराज मु बई के चांदीवली इलाके से शिवसेना विधायक ‘दिलीप लांडे’ ने गुस्से में आकर उसे सजा देने के लिए नाली के कीचडय़ुक्त गंदे पानी में बिठा दिया और कुछ लोगों से उसके सिर पर कूड़़ा भी फिंकवाया।
* 13 जून को उत्तराखंड में देहरादून के क्लेमन टाऊन थाना क्षेत्र में भाजपा महिला मोर्चा की प्रदेश मंत्री रेणु गोयल पर करोड़ों रुपए की प्रापर्टी पर कब्जा करने के आरोप में केस दर्ज कर उसे गिर तार किया गया। 

* 19 जून को मुजफ्फरनगर जनपद के गांव मोरना में भाकियू नेता व गांव के प्रधान रवींद्र चौधरी ने शराब के ठेके के एक सेल्समैन को बुरी तरह पीट डाला और ठेके पर ताला लगाकर चाबी अपने साथ ले गया।
* 23 जून को चंदौली जिले के सवईया गांव के निकट भाजपा जिला उपाध्यक्ष हरि शरण सिंह के बेटे अंकित सिंह तथा उसके साथियों ने एक ढाबे पर जमकर उत्पात मचाया और तोड़-फोड़ तथा मारपीट की।
* 27 जून को बंगाल के हुगली जिले में तृणमूल कांग्रेस के 2 नेताओं स्वप्न मंडल और काशीनाथ हलदर पर बालागढ़ ब्लाक के बी.डी.ओ. कार्यालय में आपदा प्रबंधन अधिकारी के कार्यालय में घुस कर दादागिरी करने और उसे पीटने के अलावा बालागढ़ में न घुसने देने की धमकी देने के आरोप में केस दर्ज किया गया। 

* 1 जुलाई को मध्य प्रदेश में बालोद जिले के देवरी थाना क्षेत्र के गांव जेवरतला में एक लड़की से छेड़छाड़ करने के मामले में संलिप्त पंचायत सदस्य राजेश साहू तथा उसके साथियों ने अपनी ही पार्टी (कांग्रेस) के नेता छक्कन साहू द्वारा पीड़िता का पक्ष लेने पर, उसे एक ख भे से बांध कर बुरी तरह पीट कर गंभीर रूप से घायल कर दिया।
* 1 जुलाई को गुजरात पुलिस ने पंचमहाल जिले के एक रिसोर्ट में एक शराब पार्टी पर छापा मार कर भाजपा विधायक केसरी सिंह सोलंकी को महिलाओं तथा अन्य लोगों के साथ जुआ खेलते हुए पकड़ा।  
* 2 जुलाई को हरिद्वार की ज्वालापुर सीट से भाजपा विधायक सुरेश राठौर पर उनकी ही पार्टी की एक महिला नेता द्वारा बलात्कार करने का आरोप लगाने पर बहादराबाद थाने की पुलिस ने केस दर्ज किया। 

* 4 जुलाई को मध्यप्रदेश में छतरपुर के गांव ललोनी में भाजपा नेता ‘दद्दा ललोनी’ तथा उसके साथियों ने अपने घर के निकट की सड़क न बनाने पर पी.डब्ल्यू.डी. के सब इंजीनियर को अपने साथियों के साथ मिलकर इतना पीटा कि उसकी टांग टूट गई।
* 5 जुलाई को छत्तीसगढ़ के बिलासपुर में एक ठेकेदार द्वारा कांग्रेस के एक नेता हरमेंद्र शुक्ला को दो वर्ष पूर्व दिए पैसे मांगने पर नेता को इतना गुस्सा आ गया कि उसने ठेकेदार को बुरी तरह पीट कर घायल कर दिया। * 7 जुलाई को आगरा में चैकिंग के दौरान भाजपा नेता सत्यदेव दुबे के परिचित की पकड़ी गई बाइक का चालान करने पर दुबे ने पहले तो फोन करके मल्लपुरा के थाना प्रभारी को बाइक छोडऩे के लिए कहा और धमकी दी कि ‘‘चालान हो गया है तो भी बाइक छोड़ो अगर नहीं छोड़ी तो मैं नौकरी करना सिखा दूंगा।’’ परन्तु न मानने पर उसके साथ गाली-गलौच किया जिस पर थाना मल्लपुरा में दुबे के विरुद्ध शिकायत दर्ज करवाई गई है। 

* 9 जुलाई को पुंडरी से निर्दलीय विधायक तथा हरियाणा पर्यटन निगम के चेयरमैन रणधीर सिंह गोलान तथा उसके 2 बेटों और पत्नी के विरुद्ध उनकी बहू की शिकायत पर दहेज उत्पीडऩ के आरोप में केस दर्ज किया गया।
* 10 जुलाई को कर्नाटक कांग्रेस के अध्यक्ष डी.के. शिवकुमार ने किसी बात पर नाराज होकर अपनी ही पार्टी के एक वर्कर को थप्पड़ मार दिया तथा वहां मौजूद कैमरामैन को घटना का वीडियो डिलीट करने को भी कहा।

उक्त घटनाओं से स्पष्ट है कि लगभग सभी दलों में ऐसे तत्व मौजूद हैं जो अपनी पोजीशन का अनुचित लाभ उठा रहे हैं और अपनी पार्टी के लिए परेशानी का कारण बन रहे हैं। निश्चय ही यह एक खतरनाक रुझान है। यदि इसे नहीं रोका गया तो आम लोग भी प्रतिक्रिया स्वरूप इनकी ही तरह कानून अपने हाथ में लेने को विवश होंगे और इस कारण बेकाबू हुई कानून-व्यवस्था को वश में करना कठिन हो जाएगा जिसका परिणाम सभी के लिए दुखद ही होगा।—विजय कुमार 


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Chief Editor

vijay kumar

Recommended News