बलात्कार करने वाले को कैद की 4 सजाएं

2021-07-25T04:36:24.857

सरकारों द्वारा महिलाओं के विरुद्ध अपराधों में कमी के दावों के बावजूद मानवता को शर्मसार और हैवानियत की हद पार करने वाले अपराध लगातार जारी हैं। दूध पीती बच्चियों से लेकर 80-85 साल तक की बुजुर्ग माताएं भी सुरक्षित नहीं हैं : 

* 2 फरवरी को महोबा (उत्तर प्रदेश) के खरेला थाना क्षेत्र के एक गांव में 80 वर्षीय बुजुर्ग महिला के साथ घर में घुस कर बलात्कार किया गया।
* 25 मार्च को ग्वालियर के गिरवाई इलाके में एक 60 वर्षीय वृद्धा से एक व्यक्ति ने हैवानियत कर डाली और जब पीड़िता ने कहा कि मैं तेरी मां जैसी हूं तो दरिंदे ने उससे मारपीट की व बाइक से उसका पैर कुचल डाला।
* 5 मई को पश्चिम बंगाल के पूर्वी मिदनापुर में 60 वर्षीय बुजुर्ग महिला की पिटाई और फिर बलात्कार करने के बाद उसे जहर दे दिया गया।
* 13 जून को दिल्ली के दल्लूपुरा इलाके में एक 62 वर्षीय महिला से बलात्कार और हत्या करने के आरोप में एक युवक को गिर तार किया गया। 

* 1 जुलाई को कानपुर के मंगलपुर थाना क्षेत्र स्थित एक गांव में 13 वर्षीय किशोरी के साथ बलात्कार के बाद उसकी हत्या कर शव को जला दिया गया।
* 7 जुलाई को कोलकाता के एक लैट में एक महिला से गैंगरेप करने के बाद आरोपी 15 लाख रुपए लूट कर ले गए।
* 9 जुलाई को जगराओं के गांव रूमी में 8 वर्षीय बच्ची से बलात्कार के आरोप में एक युवक को पकड़ा गया।
* 14 जुलाई को भोपाल में बाप-बेटे द्वारा एक महिला से कई महीनों तक बलात्कार करने के बाद उसे 60 हजार रुपए में बेच दिया।
* 18 जुलाई को बुलंदशहर में 9 महीने की बच्ची से बलात्कार करने के आरोप में एक युवक के विरुद्ध मामला दर्ज किया गया। 

* 19 जुलाई को इटावा में एक अवकाश प्राप्त हैडमास्टर ने 4 साल की बच्ची के साथ अश्लील हरकतों के बाद बलात्कार कर डाला जिसके परिणामस्वरूप वह गंभीर रूप से घायल हो गई।
* 22 जुलाई को हिमाचल के जोगिंद्र नगर में एक 67 वर्षीय अधेड़ ने 11 वर्षीय मासूम के साथ हैवानियत कर डाली।
* 22 जुलाई को ग्रेटर नोएडा के बिसरख गांव में एक युवक ने घर के बाहर खेल रही 6 वर्षीय बच्ची से बलात्कार कर डाला।
* 24 जुलाई को अररिया में एक युवक ने अपने पड़ोस में रहने वाली बच्ची को घर के बाहर से उठाकर उससे बलात्कार किया। 

* 24 जुलाई को जयपुर के मुहाणा में विवाह का झांसा देकर एक महिला से बलात्कार करने के आरोप में सेना के एक जवान को गिरफ्तार किया गया।
* 24 जुलाई को शिमला में एक स्कूली छात्र ने खेलने के बहाने अढ़ाई वर्ष की बच्ची को खेतों में ले जाकर उससे बलात्कार कर डाला।
* इससे पूर्व 19 मार्च, 2019 को गुरदासपुर के भैणी मियां खां थाने के एक गांव में एक नेपाली युवक ने 84 वर्षीय बुजुर्ग महिला से बलात्कार करने के बाद उसकी हत्या कर दी थी।


उक्त घटनाओं से स्पष्ट है कि कड़े कानूनी प्रावधानों के बावजूद अपराधी बाज नहीं आ रहे। इसी को देखते हुए गुरदासपुर की जिला और सैशन जज रमेश कुमारी ने 23 जुलाई को उक्त आरोपी को 4 सजाएं सुनाईं। पहली सजा के अंतर्गत उसे 10 वर्ष स त कैद और 10 हजार रुपए जुर्माना, इसके समाप्त होने के बाद 6 महीने की कैद, फिर 15 साल की साधारण कैद की सजा भुगतनी होगी और उसके पूरा होने के बाद चौथी सजा के रूप में उम्रकैद की सजा सुनाई गई। जहां इस केस में माननीय अदालत ने हर सजा पर बारी-बारी अमल करने के आदेश दिए हैं, वहीं देश में जारी लॉकडाऊन के बावजूद इस केस का मात्र 2 वर्ष और 4 महीनों में फैसला भी सुना दिया। 

इतनी जल्दी और शिक्षाप्रद फैसला सुनाने के लिए माननीय न्यायाधीश रमेश कुमारी साधुवाद की पात्र हैं। इसी प्रकार महिलाओं के बलात्कारों के चल रहे लंबित मामलों तथा अन्य अपराधों में समूचे देश में त्वरित फैसले सुनाए जाने चाहिएं ताकि अपराधों में कमी आ सके।—विजय कुमार  


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Pardeep

Recommended News