गांव में पानी के सकंट से रिश्ते भी आने हुए बंद, अब ग्रामीणों ने निकाला समाधान

मुश्किलों में अक्सर अपने ही अपनों के लिए तकलीफ सहते है,,,,इसलिए इसको हम एकता की मिसाल कहते हैं....ऐसे ही जुलाना के गांव बुढ़ाखेड़ा लाठर के ग्रामीणों ने एकता की मिसाल पेश की है,,,जहां ग्रामीणों ने वर्षो से बनी गांव में पीने के पानी की समस्या का समाधन खुद ही 35 लाख रुपये खर्च कर निकाल लिया है.

यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!