फ्लैश इलेक्ट्रॉनिक्स ने रॉयल एनफील्ड पर यूएस में किया केस, पेटेंट के उल्लंघन का लगाया आरोप

बिजनेस डेस्कः वाहनों के कल-पुर्जे बनाने वाली फ्लैश इलेक्ट्रॉनिक्स इंडिया ने इलेक्ट्रॉनिक उपकरण के उत्पादन के संदर्भ में पेटेंट के उल्लंघन को लेकर रॉयल एनफील्ड के खिलाफ अमेरिका में मुकदमा दायर किया है। रॉयल एनफील्ड महंगी मोटरसाइकिल बनाने वाली कंपनी है। 

20 फरवरी 2018 को अमेरिका में पेटेंट हासिल किया
पुणे की कंपनी ने कहा कि मुकदमे के तहत रायल एनफील्ड ने ‘रेगुलेटर रेक्टिफायर डिवाइस' और इसी से संबंधित वोल्टेज को नियमित करने के उपाय पर उसके पेटेंट का उल्लंघन किया है। कंपनी ने दावा किया कि उसके उत्पाद के लिए पेटेंट यूनाइटेड स्टेट्स पेटेंट एंड ट्रेडमार्क आफिस (यूएसपीटीओ) ने बाकायदा 20 फरवरी 2018 को जारी किया। इससे पहले, उनकी शोध एवं विकास टीम ने 2014 में इस उपकरण को तैयार कर लिया था। उस समय से फ्लैश इलेक्ट्रानिक्स देश और विदेश के कई प्रमुख दोपहिया वाहन विनिर्माताओं के लिए इस उपकरण की प्रमुख विनिर्माण और आपूर्तिकर्ता है। 

वासदेव ने घटना को आपत्तिजनक बताया 
फ्लैश इलेक्ट्रॉनिक्स इंडिया के संस्थापक और प्रबंध निदेशक संजीव वासदेव ने कहा, ‘‘हम देश विदेश में प्रमुख वाहन विनिर्मातओं के लिए एक भरोसेमंद आपूर्तिकर्ता रहे हैं। रॉयल एनफील्ड की तरफ से इस प्रकार का अप्रत्याशित मामला आना दुर्भाग्यपूर्ण है।'' उन्होंने कहा कि यह घटना आपत्तिजनक है और रायल एनफील्ड की विश्वसनीयता प्रभावित हुई है।

वासदेव ने दावा किया कि मामले के निपटान के लिए फ्लैश से रॉयल एनफील्ड के तीन अधिकारियों ने 12 अक्टूबर 2018 को नई दिल्ली में संपर्क किया था और मुकदमा दायर नहीं करने का आग्रह किया था। उन्होंने कहा, ‘‘फ्लैश ने इस बैठक के नतीजे का इंतजार किया लेकिन रॉयल एनफील्ड ने मामले को नहीं सुलझाया।''

 

Related Stories:

RELATED भ्रष्टाचार के मुकदमे से बचने में फ्रांस के पूर्व राष्ट्रपति विफल