शांता बोले- मैंने राजनीति से नहीं, केवल चुनाव की राजनीति से ली विदाई

पालमपुर (मुनीष दीक्षित):भाजपा के वरिष्ठ नेता शांता कुमार ने कहा कि उन्होंने राजनीति नहीं, केवल चुनाव की राजनीति छोड़ी है। वह प्रदेश में चुनाव प्रचार करेंगे या नहीं, ऐसा सवाल नहीं पूछा जाना चाहिए। यह मेरे साथ अन्याय होगा। मैंने पहले ही स्पष्ट किया है कि इस बार मैं चुनाव लडऩे का नहीं बल्कि लड़वाने का आनंद लूंगा। यामिनी परिसर पालमपुर में शांता कुमार से मिलने पहुंचे भाजपा के कांगड़ा संसदीय क्षेत्र के उम्मीदवार किशन कपूर से मुलाकात के दौरान पत्रकारों के सवालों के जवाब में उन्होंने कहा कि खुशी है कि पार्टी ने किशन कपूर को चुनावी मैदान में उतारा है और यह चुनाव किशन कपूर 2 लाख मतों से जीतेंगे।

5 साल पहले ही कर दिया था चुनाव लड़ने से मना

उन्होंने कहा कि उन्होंने 5 साल पहले ही चुनाव लड़ने से मना कर दिया था। 5 साल पहले भी उन्होंने चुनाव न लड़ने की बात प्रकट की थी कि वह चुनाव नहीं लड़ना चाहते, लड़वाना चाहते हैं। राजनाथ सिंह उस समय पार्टी के अध्यक्ष थे और उन्होंने कहा था कि 2014 का चुनाव महत्वपूर्ण है। मैंने कहा कि इस चुनाव को जिता सकते हैं, उस समय मैंने 3 नाम दिए थे। ये नाम नहीं बता सकता। उस समय राजनाथ सिंह ने 10 दिन बाद कहा था कि पार्टी ने सर्वे करवा लिया है और आपको ही चुनाव लड़ना पड़ेगा। उस समय चुनाव लड़ा और सबकी कृपा से उस चुनाव को 1 लाख 70 हजार मतों से जीता।

इस बार तय किया था कि नहीं लड़ूंगा चुनाव

इस बार फिर मैंने व मेरे परिवार ने तय किया था कि चुनाव नहीं लड़ूंगा। एक दिल्ली के नेता व एक हिमाचल के नेता ने कहा कि ऐसा अभी मत कहो, पता नहीं आगे क्या होगा। कुछ मित्रों ने पूछा कि पार्टी ने कहा तो क्या करोगे, प्रदेश की बैठक में भी चर्चा हुई, नगरोटा के कार्यक्रम में मेरा नाम तक घोषित कर दिया। पार्टी में फिर विचार हुआ और 15-20 लोग जिनमें अडवानी भी शामिल हैं, उनको कहा गया कि वे चुनाव नहीं लड़ेंगे। मैंने पहले भी कभी नहीं कहा था कि मैं चुनाव लड़ूंगा। चुनाव की राजनीति से विदाई ली है, राजनीति में हूं व रहूंगा।

आज मैं दुनिया के सबसे प्रसन्न लोगों में से एक हूं

मुझे बहुत खुशी है कि लगभग 50-60 साल की राजनीति के बाद आज इस चुनाव की राजनीति से विदाई ली है। आज मैं दुनिया के सबसे प्रसन्न लोगों में से एक हूं। मैंने जब जनसंघ के रूप में राजनीति शुरू की तो कुछ नहीं था, जेलें थीं व पुलिस की लाठियां थीं। आज दुनिया की सबसे बड़ी पार्टी हमारी पार्टी है। आज देश व प्रदेश में हमारी सरकार है। मेरी इस बात की केंद्रीय समिति की बैठक में शिवराज चौहान भी चर्चा कर चुके हैं कि चुनाव लडऩे का नहीं, लड़ाने का आनंद लूंगा, ऐसे में मैं प्रदेश में प्रचार करूंगा या नहीं करूंगा, यह सवाल पूछा जाना मेरे साथ अन्याय होगा। मैंने हमेशा पार्टी के लिए काम किया है और करता रहूंगा।

Related Stories:

RELATED पूरी तरह बदल चुकी है ‘राजनीति’