टेलीकॉम को सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए री-इंजीनियर नेटवर्क की जरूरत, एयरटेसल

नई दिल्ली:टेक्नोलौजी के दौर में टेलीकॉम कंपनियों को कई समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है। जिसके कारण उन्होंको अप टू डेट रहना होगा, क्योंकि सुरक्षा दूरसंचार ऑपरेटरों और उपकरण विक्रेताओं का प्रमुख फोकस क्षेत्र बन गया है। एयरटेल सीटीओ रणदीप सेखों ने कहा कि सुरक्षित नेटवर्क के निर्माण के लिए स्वचालन और डिजिटलीकरण को अपनाने के माध्यम से नेटवर्क की पुन: इंजीनियरिंग की आवश्यकता है।

उनका कहना है कि हमारा दूरसंचार उद्योग विकसित हुआ है और डिजिटल और स्वचालन को अपनाने के लिए हर किसी की मानसिकता को बदलना अभी महत्वपूर्ण है। कयोंकि बहुत सारी डीएनए शिफ्ट हो रही है और इकोसिस्टम बढ़ रहा है।उन्होंने कहा कि डिजिटलीकरण और स्वचालन के समर्थन के लिए संगठनों की पदानुक्रम को बदलने की जरूरत है।

एयरटेल का कहना है कि हमारे पास एक सार्वभौमिक कोर है जो 2जी, 3जी, 4जी पर काम कर रहा है और 5जी तक विकसित करने के लिए तैयार है।ऑटोमेशन के महत्व के बारे में सेखों का कहना है कि टेलीकॉम उद्योग के लिए एक अवधारणा के रूप में ऑटोमेशन नया है और भविष्य के नेटवर्क के निर्माण के लिए महत्वपूर्ण है। क्योंकि टेलीकॉन मैन्युअल रूप से सब कुछ ठीक करने में सक्षम नहीं हो सकता है।भारत में 4जी पर वॉल्यूम की समस्या का सामना कर रहा है। 4जी में माइग्रेट करने की समस्या के समाधान के बाद 5जी और इससे अधिक विकसित हो सकता है। उन्होंने कहा कि नई-नई तकनीकों को अपना कर भारत-केंद्रित उपयोग के मामलों को विकसित करने और ५ जी के प्रभाव को तैयार करने के लिए समस्या का समाधान किया जा सकता है।

Related Stories:

RELATED दूरसंचार क्षेत्र के लिए MTNL का होना जरूरी, ग्राहकों के लिए महत्वपूर्ण