एचडीएफसी बैंक को वैल्यूएशन चिंता नहीं है, शेयरों में होगी बढ़त

नई दिल्ली: एचडीएफसी बैंक की वैल्यूएशन पिछले सप्ताह 6 लाख करोड़ रुपए पहुंची है। जो कि अधिक वैल्यूएशन के कारण बैंक के लिए चिंता का विषा बन गई है। देश का सबसे बड़ा निजी बैंक दुनिया के सबसे महंगे कर्जदारों की सूची में शामिल हो चुका है। फिर भी निवेशक इस पर दांव खेलने के लिए उत्साहित नजर आ रहे हैं। 

इस बैंक की एसेट क्वालिटी गजब की है और मार्जिन स्थिर है। साथ ही इसके कर्ज की लागत लगातार घट रही है, जो इसे अधिक आकर्षक बनाता है। पीछले एक महीने से बैंक के शेयरों ने करीब 7 फीसदी की छलांग लगाई है। प्रभुदास लीलाधर के सीईओ अजय बोड़के ने कहा कि अगले तीन से पांच साल की अवधि में 15 से 20 फीसकी का रिटर्न तलाश रहे है। प्राइस-टू-बुक वैल्यू के आधार पर यह 5.3 गुना पर है,जो काफी महंगा है लेकिन निवेशक वैल्यूएशन कि चिंता किए बगैर शेयरों में निवेश कर रहे हैं।

पिछले एक साल में बैंक के 20 फीसदी शेयरों में बढ़ौतरी हुई है। जबकि निफ्टी 50 इंडेक्स ने 17 फीसदी की तेजी देखी गई है। तकनीकी चार्ट्स पर यह काफी ठोस संकेत दे रहा है। जिसके कारण फंड मैनेजर्स का मानना है कि आने वाले तीन से पांच साल में यह बेंचमार्क से बेहतर प्रदर्शन कर सकता है। स्थिर मार्जिन, कम लागत और बढ़िया क्वालिटी के चलते बीते 10 सालों से एचडीएफसी बैंक की कमाई और प्रॉफिट की ग्रोथ क्रमश 23 फीसदी और 27 फीसदी रही है। 3 साल, 5 साल और 10 साल की अवधि में रिटर्न ऑन इक्विटी भी क्रमश 18 फीसदी से अधिक रहा है।

Related Stories:

RELATED मार्च 2019 में एचडीएफसी बैंक का शुद्ध लाभ 23 प्रतिशत बढ़ा