PM मोदी ने वंदे भारत एक्‍सप्रेस को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया, 17 फरवरी से आम यात्रियों के लिए दौड़ेगी

बिजनेस डेस्क (गुलशन): भारत की पहली इंजनलेस ट्रेन वंदे भारत एक्सप्रेस को पीएम नरेंद्र मोदी ने हरी झंडी दिखा दी है। इस ट्रेन को पहले ट्रेन 18 के नाम से जाना जाता था। ये ट्रेन नई दिल्ली स्टेशन से वाराणसी के लिए रवाना हो गई है। भारतीय रेलवे ने इस ट्रेन का निर्माण मेड इन इंडिया स्टेटस के तहत किया है। ये सेमी स्पीड ट्रेन नई दिल्ली और वाराणसी के बीच चलेगी। इस ट्रेन की स्पीड 160 किलोमीटर प्रति घंटा है।

इस ट्रेन की टॉप स्पीड 180 किलोमीटर प्रति घंटे की है लेकिन मार्ग पर स्पीड लिमिट होने के कारण इसे 130 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से चलाया जाएगा। 16 कोच की इस ट्रेन के निर्माण में 18 महीनों का वक्त और 97 करोड़ रुपए लगे हैं। देश इस ट्रेन को 30 साल पुरानी शताब्दी एक्सप्रेस की सक्सेसर के रूप में देख रहा है।

ये ट्रेन फुल एसी है और नई दिल्ली से चलने के बाद ये कानपुर और इलाहाबाद (प्रयागराज) ही रुकेगी। ट्रेन में वाईफाई, जीपीएस, टच फ्री बायो टॉयलेट, एलईडी लाइटिंग, मोबाइल चार्जिंग और क्लाइमेंट कंट्रोल सिस्टम मिलेगा। इस ट्रेन में दो क्साल- एक्जीक्यूटिव और चेयर कार की टिकट मिल रही हैं। साथ ही खाने का रेट भी अलग है। ये ट्रेन 17 फरवरी से आम लोगों के लिए शुरू होगी।

रेलवे ने इस ट्रेन का किराया 1850 रुपए से घटाकर 1760 रुपए कर दिया है। ये किराया चेयर कार क्लास का है। जबकि एक्जीक्यूटिव क्लास का किराया 3,520 रुपए से घटाकर 3,310 रुपए कर दिया गया है। ये किराया दिल्ली से वाराणसी के बीच का है। वंदे भारत एक्सप्रेस को हरी झंडी दिखाने से पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस ट्रेन का पूरा जायजा लिया। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ रेल मंत्री पीयूष गोयल भी ट्रेन की लॉन्चिंग के वक्त वहां मौजूद थे। 

ट्रेन को आम नागरिकों के लिए 17 फरवरी के शुरू किया जाएगा। हालांकि आज ट्रेन नई दिल्ली से वाराणसी के लिए रवाना हो गई है। ट्रेन पूरी तरह से ऑटोमेटिक है। इसके दरवाजे ऑटोमेटिक तरीके से खुलते बंद होते हैं। ट्रेन में एक बार में कुल 1128 यात्री सफर कर सकेंगे। 

Related Stories:

RELATED ‘मोदी को और कितना वक्त चाहिए?’