बीएड कंबाइंड एंट्रेस टेस्ट के बाद होने वाली काऊंसिलिंग के नियम बदले

एजुकेशन डेस्क: बीएड के कंबाइंड इंट्रेस टेस्ट (सीईटी) के बाद होने वाली काऊंसिलिंग बदले हुए नियम से होगी। काऊंसिलिंग ‘गेट' की तर्ज पर कराई जाएगी।  बदले हुए नियम में विद्यार्थियों से कॉलेजों की च्वाइस फिलिंग पहले ली जाएगी। उसके बाद काऊंसिलिंग होगी, जबकि पिछले साल पहले काऊंसिलिंग हुई थी। फिर कॉलेजों का च्वाइस मांगा गया था। नियम के मुताबिक सीईटी का रिजल्ट घोषित होने के बाद कटऑफ जारी किया जाएगा। कटऑफ के अंदर आने वाले अभ्यर्थी ऑनलाइन कॉलेजों का च्वाइस भरेंगे। अभ्यर्थियों को सभी कॉलेजों को अपने च्वाइस में भरना होगा। यदि 340 कॉलेज हैं तो इन सभी को अपने च्वाइस में अपनी इच्छानुसार क्रमवार देना होगा। च्वाइस फिलिंग के लिए 10 दिन का वक्त मिलेगा। 

च्वाइस के साथ ही काऊंसिलिंग फीस जमा करनी होगी। अभ्यर्थियों के प्राप्तांक के अनुसार पहले राऊंड के तहत कॉलेज आबंटित कर दिए जाएंगे। अब उन्हें काऊंसिलिंग के लिए बुलाया जाएगा, जहां उनके प्रपत्रों की जांच होगी। इसमें सबकुछ सही पाए जाने पर अभ्यर्थियों को ‘फिट फॉर एडमिशन' का सर्टीफिकेट मिलेगा। 

 

यहां अभ्यर्थी को दो हजार रुपए सीट एक्सेप्टेंश फीस देनी होगी। फिर अभ्यर्थी कॉलेज जाएंगे। यहां उनसे दो हजार रुपए घटाकर फीस ली जाएगी और नामांकन होगा। जो च्वाइस नहीं भरेंगे वे नामांकन प्रक्रिया से वंचित हो जाएंगे। सीईटी में आरक्षित वर्ग का क्वालिफाइंग मार्क्स 30 और अनारक्षित वर्ग के लिए 35 होगा। 

पहले राऊंड की काऊंसिलिंग के बाद बची सीटों के लिए दूसरे राऊंड की काऊंसिलिंग होगी। इसमें कटऑफ घटेगा। दूसरे राऊंड की काऊंसिलिंग में वही हिस्सा लेंगे जो पहले राऊंड में सैलेक्शन के बाद भी काऊंसिलिंग में भाग नहीं लिए थे। तीसरे राऊंड में भी पहले और दूसरे राऊंड में काऊंसिलिंग में हिस्सा नहीं लेनेवाले ही भाग लेंगे। तीसरे राऊंड के बाद भी सीटें बची रह जाती हैं तो स्टेट स्पॉट राऊंड होगा। इसमें सीट चिह्नित कर भरे जाएंगे। इसके बाद नामांकन की प्रक्रिया बंद कर दी जाएगी। कक्षा एक जुलाई से होगी। 

 

21 जनवरी से 20 मार्च तक आवेदन किया जा सकता है। वहीं 10 मार्च को परीक्षा होगी। 20 से 30 मार्च के बीच रिजल्ट जारी कर दिया जाएग। पिछले साल के आंकड़ों के मुताबिक बिहार में 34400 बीएड सीटें हैं। हालांकि, निजी बीएड कॉलेजों में इस बार रिजर्वेशन लागू नहीं होगा। पिछले साल निजी कॉलेजों में रिजर्वेशन था।  

Related Stories:

RELATED सी.एच.बी. ने नीड बेस्ड चेंज को दी अनुमति अब बदलाव नियमित करवा सकेंगे अलॉटी