विधानसभा चुनाव: एक लाख 74 हजार EVM में कैद है 8500 उम्मीदवारों की किस्मत

नेशनल डेस्क: हाल ही में पांच राज्यों में संपन्न हुए विधानसभा चुनावों के बाद अब सबकी निगाहें इलेक्ट्रोनिक वोटिंग मशीनों (ई‍वीएम) पर टिकी हैं। इन चुनावों में इस्तेमाल की गईं 1 लाख 74 हजार ईवीएम में 8500 से ज्यादा उम्मीदवारों की किस्मत कैद है।
 



ये इलेक्ट्रोनिक वोटिंग मशीनें इस समय राजस्थान, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, मिजोरम और तेलंगाना के 670 अतिसुरक्षित कक्षों में रखी हैं। इन चुनावों में कुल 1 लाख 74 हजार 724 ईवीएम का इस्तेमाल किया गया। सबसे ज्यादा 65 हजार 367 मशीनें मध्य प्रदेश में इस्तेमाल की गईं। कुल 8 हजार 500 उम्मीदवारों ने इन चुनावों में किस्मत आजमाई है जिसमें सबसे ज्यादा 2907 उम्मीदवार मध्य प्रदेश में हैं।
 


पांच राज्यों में विधानसभा चुनाव के लिए हुई वोटों की गिनती मंगलवार को होनी है, लेकिन ईवीएम अनियमितता की कई घटनाएं सामने आने के बाद इसकी सुरक्षा को लेकर कई सवाल खड़े हो गए हैं। कांग्रेस ने सत्ता पार्टी पर ईवीएम के साथ छेड़छाड़ करने का आरोप लगाया है। हालांकि चुनाव आयोग का कहना है कि ईवीएम मशीनों के साथ किसी तरह की कोई छेड़छाड़ नहीं की गई है। 

इस बार परिणाम आने में देरी होने की भी आशंका जताई जा रही है। दरअसल, इस बार भाजपा और कांग्रेस के बीच कांटे की टक्कर है। ऐसे में प्रत्येक राउंड में वोटों की गिनती और परिणाम को लेकर शिकवा-शिकायतें होंगी। जिनका निराकरण करने में ज्यादा समय लगेगा। इस कारण हर राउंड में 10 से 15 मिनट का समय ज्यादा लग सकता है।

Related Stories:

RELATED अगर EVM ठीक है तो जापान जैसे विकसित देश इस्तेमाल क्यों नहीं करते :अखिलेश