यात्री को हवाई जहाज से उतारा, देना होगा 15,500 हर्जाना

चंडीगढ़ (राजिंद्र): दिल्ली में यात्री को एयर इंडिया स्टाफ ने हवाई जहाज से उतार दिया और आगे चंडीगढ़ पहुंचने के लिए वैकल्पिक व्यवस्था प्रदान नहीं की। इस कारण उसे टैक्सी कर मंजिल पर पहुंचना पड़ा। उपभोक्ता फोरम ने इस पर कड़ा संज्ञान लेते हुए कंपनी को टैक्सी का 5500 रुपए किराया देने के निर्देश दिए हैं।

साथ ही मानसिक पीड़ा और उत्पीडऩ के लिए 5 हजार रुपए मुआवजा और 5 हजार मुकद्दमा खर्च भी देने को कहा है। आदेश की प्रति मिलने पर 30 दिन में आदेशों की पालना करनी होगी, नहीं तो कंपनी को टैक्सी किराया और मुआवजा राशि पर 12 प्रतिशत वार्षिक की दर से ब्याज भी देना होगा। ये आदेश जिला उपभोक्ता विवाद निवारण फोरम-1 ने सुनवाई के दौरान जारी किए। 

5500 रुपए में टैक्सी करनी पड़ी हायर
जानकारी के मुताबिक संत लोंगोवाल इंस्टीच्यूट ऑफ इंजीनियरिंग एंड टैक्नोलॉजी, लोंगोवाल जिला संगरूर के एसोसिएट प्रोफैसर सरदूल सिंह घुम्मन ने एयर इंडिया सैक्टर-34ए चंडीगढ़ के चेयरमैन  और मैनेजिंग डायरैक्टर के जरिए उपभोक्ता फोरम में शिकायत दी थी। शिकायतकर्ता  ने कहा कि 6 सितम्बर 2015 को वह ग्रोनिंगन, नीदरलैंड्स में कान्फ्रैंस में हिस्सा लेकर चंडीगढ़ आ रहे था। उन्होंने कहा कि दिल्ली एयरपोर्ट से फ्लाइट चंडीगढ़ के लिए उडऩे वाली थी पर उन्हें बिना कारण बताए जहाज से उतार दिया गया।

उन्हें किसलिया उतारा  ये जानने के लिए उन्होंने कंपनी से पूछा पर स्टाफ ने इस बारे में जानकारी हासिल करने का प्रयास नहीं किया। बार-बार निवेदन के बाद भी जब बात नहीं बनी तो उन्होंने चंडीगढ़ जाने के लिए 5500 रुपए में टैक्सी हायर की क्योंकि उन्हें 7 सितम्बर 2015 को ड्यूटी ज्वाइन करनी थी। फिर उन्होंने उपभोक्ता फोरम में शिकायत दी। फोरम में ऑपोजिट पार्टियों का पक्ष जानने के लिए उन्हें नोटिस जारी किया गया। आपोजिट पार्टी ने पक्ष रखा कि उन्होंने कुछ नहीं किया, जबकि सिक्योरिटी एजैंसी ने दोबारा सिक्योरिटी चैक के लिए शिकायतकर्ता  को रोका। 
 

Related Stories:

RELATED ट्रेन में गहने चोरी होने पर रेलवे देगा 4.45 लाख रुपए