सेहत विभाग की टीम ने दवाई की फैक्टरी में की रेड

चंडीगढ़: स्थानीय नगर काउंसिल के अंतर्गत आते गांव चनालों के फोकल प्वाइंट में चल रही एक फैक्टरी में छापा मारकर सेहत विभाग की टीम ने गैर-कानूनी तौर पर बनाई जा रही दवाईयों को जब्त किया है। बिना मंजूरी से ट्रामाडोल नामक दवाई बनाकर बेचने के इस मामले संबंधी सेहत विभाग ने कार्रवाई शुरू कर दी है। 

जानकारी के अनुसार सेहत विभाग, जिला मोहाली की ड्रग कंट्रोल टीम की ओर से शहर में पड़ते गांव चनालों की फैक्टरियों पर अचानक छापेमारी की गई। ड्रग्स कंट्रोलर इंस्पेक्टर मनप्रीत कौर, नवदीप कौर, अमित लखनपाल के नेतृत्व वाली टीम ने गुप्त सूचना के आधार पर संयम हेल्थकेयर और एनडी फार्मा फैक्टरियों पर छापेमारी करते हुए फैक्टरियों में तैयार की दवाईयों की जांच की और रिकॉर्ड देखा। 

इसी दौरान रिकॉर्ड की जांच पड़ताल के दौरान सामने आया कि एनडी फार्मा फैक्टरी की ओर से ट्रामाडोल नामक दवाई गैर-कानूनी तौर पर बिना मंजूरी के बनाकर पंजाब सहित यूपी आदि राज्यों में सप्लाई की गई है। जब इन दवाईयों के कागजात मांगने पर कंपनी के अधिकारी इस संबंधी कोई कागजात नहीं दिखा सके। इस पूरी कार्रवाई को अंजाम देने वाली टीम के अधिकारियों ने बताया कि कंपनी ने पाबंदीशुदा दवाई ट्रामाडोल की एक लाख गोलियां बनाकर बेची है। उन्होंने कहा कि गैर-कानूनी तौर पर दवाई तैयार करके बेचने का यह मामला ड्रग्स एंड कॉस्मेटिक एकट की सीधे उल्लंघना है। 

इस कार्रवाई दौरान टीम ने फैक्टरी में से दवाईयों के तीन सैंपल लिए हैं जो कि जांच और विश्लेषण के लिए लैब में भेजे गए हैं। टीम ने बताया कि यह मामला उच्च अधिकारियों के ध्यान में ला दिया गया है और गैर-कानूनी तौर पर दवाई तैयार करने को लेकर फैक्टरी के खिलाफ अदालती केस बनाने के लिए ज्वाइंट कमिश्नर, ड्रग्स को रिपोर्ट भेज दी गई है। 

Related Stories:

RELATED डेंगू के तीन मरीज कन्फर्म, 41 पहुंचा आंकड़ा