बाबा का ढोंग आया सामने, यौन शोषण का किया प्रयास

अमृतसर (महेन्द्र):बाबा राम रहीम और आसाराम बापू जैसे कई कलियुगी संत महात्माओं के नाम सामने आने के पश्चात अब मोगा के एक ढोंगी एवं कलियुगी बाबा का नाम सामने आया है। जिस पर स्थानीय एक युवती ने जहां उस पर यौन-शोषण करने के प्रयास का आरोप लगाया, वहीं उसके परिवार ने अभी भी उनकी दो लड़कियों को हिपोटिज्म के जरिए अपने वस में किए जाने के आरोप भी लगाए हैं। दिलचस्प बात यह भी है कि खुद को बाबा की पीड़िता बताने वाली परिवार की एक लड़की ने तो उसे जेल की सलाखों के पीछे पहुंचाने के इरादे से वकालत तक कर ली है, लेकिन पुलिस का उचित सहयोग न मिल पाने के कारण वह अपने इस मुकाम पर नहीं पहुंच पा रही है। दूसरी तरफ पीड़ित परिवार ने इस ढोंगी बाबा के खिलाफ कानूनी कार्यवाही करने के लिए किसी आईपीएस अधिकारी से सारे मामले की जांच करवाने के साथ-साथ बाबा के चंगुल से उनके परिवार की बाकी दोनों लड़कियों को भी छुड़वाने की गुहार लगाई है। 

बुुजुर्ग महिला की मौत के बाद भूत-प्रेत के चक्कर में फंसा था परिवार
स्थानीय मजीठा रोड बाईपास के पास स्थित एक गांव से संबंधित पीड़ित परिवार ने बताया कि उनके परिवार में बुजुर्ग महिला की मौत के पश्चात उनके परिवार की तीनों लड़कियों तथा उनकी मां को अचानक दौरे पडऩे शुरू हो गए थे और उनके हाथ-पांव एकदम मुड़ जाते थे। बुरी तरह से उलझनों में फंसा उनका परिवार बहुत ही परेशान चल रहा था। जिससे छुटकारा पाने के लिए वर्ष 2012 में उन्होंने अपने घर में अजनाला से 2 निहंग सिखों को बुला कर 40 दिनों का सहज पाठ भी करवाया था,  लेकिन इससे भी कोई राहत न मिलने पर एक निहंग सिख ने कहा कि लगता है कि उनके परिवार में किसी भूत-प्रेत की साया चल रहा है। इसलिए मोगा में कोई कुलदीप सिंह नामक एक बाबा है, जो ऐसी परेशानियों से मुक्ति दिलाने में बहुत माहिर है। जिस पर वह उन्हें मोगा के उस बाबा के पास ले गया था। जिसने अपने घर में ही धार्मिक ठिकाना बना रखा है। बाबा ने उनके सारे परिवार को इस परेशानी से मुक्त कराने का यकीन दिलाते हुए उन्हें समय समय पर कभी अपने पास बुलाना शुरू कर दिया, तो कभी उनके घर पर भी आना जाना शुरू कर दिया था। बाद में उसने उनके परिवार की तीनों लड़कियों को हिपोटिज्म के जरिए अपने वस में करते हुए उन्हें उसके डेरे पर ही छोडऩे की बातें करनी शुरू कर दी थी, लेकिन कुछ समय के पश्चात उनकी मंजली बेटी का इस ढोंगी बाबा से विश्वास खत्म हो गया था और उस पर कुछ संदेह भी होने के कारण वह उसके चंगुल से बाहर कर वापस अपने घर लौट आई थी। अपनी बहनों को भी वहां से वापिस घर लौटने के लिए प्रयास करती रही, लेकिन वह ढोंगी बाबा के इतने वस में आ चुकी थी, तो उन्हें कुछ और सूझता ही नहीं था।

ढोंगी बाबा पर घर में यौन-शोषण का प्रयास करने के लगाए आरोप
परिवार की मंजिली पीड़िता लड़की ने स्थानीय थाना कंबो की पुलिस से शिकायत कर ढोंगी बाबा पर आरोप लगाए थे कि पहली जुलाई 2016 को बाबा ने बहाने से उसके कमरे में आकर उसके साथ यौन-शोषण का प्रयास किया था। उसकी शिकायत पर पुलिस ने कथित आरोपी बाबा के खिलाफ मुकद्दमा दर्ज करने की बजाए धारा 354-ए, के तहत सिर्फ छेडख़ानी के ही आरोप में केस दर्ज किया था। 

पुलिस ने एफआईआर ही कैंसिल करने की रिपोर्ट कर दी थी प्रस्तुत
पीड़ित परिवार ने बताया कि पुलिस ने एक तो कथित आरोपी बाबा के खिलाफ दूसरी धाराएं लगाकर केस को कमजोर कर दिया, वहीं दूसरी तरफ उसके खिलाफ अदालत में चालान पेश करने की बजाए उल्टा पीड़िता की शिकायत को ही गलत बताकर कथित आरोपी बाबा के खिलाफ एफआईआर को कैंसिल करने के लिए अदालत में रिपोर्ट प्रस्तुत कर दी थी। जिस पर उनके द्वारा एतराज व्यक्त करने पर अदालत ने एफआईआर कैंसिल करने की बजाए पुलिस को इस मामले की दोबारा जांच करने के आदेश जारी कर रखे हैं। 
 

Related Stories:

RELATED जबरन मैरिज, पुलिस प्रोटैक्शन फिर दोस्तों संग किया यौन शोषण