SC/ST एक्ट के विरोध में आज भारत बंद, जानिए किस राज्य में क्या है असर

नेशनल डेस्क: अनुसूचित जाति-जनजाति अधिनियम में संशोधन के विरोध में आज सवर्णों (जनरल) ने भारत बंद बुलाया है। भारत बंद का असर ज्यादातर बिहार, राजस्थान, उत्तर प्रदेश और मध्यप्रदेश में देखने को मिल रहा है। सवर्णों (जनरल) ने केंद्र के उस फैसले के खिलाफ मोर्चा खोला है जिसमें सरकार ने सुप्रीम कोर्ट के फैसले को पलटते हुए SC/ST एक्ट में संशोधन कर मूल स्वरूप में बहाल करने का निर्णय लिया है।


बिहार
सवर्णों ने आरा रेलवे स्टेशन के पास लोकमान्य तिलक एक्सप्रेस को रोक दिया गया और केंद्र के खिलाफ नारेबाजी की। मधुबनी में NH 105 को आंदोलनकारियों ने जाम कर दिया है। प्रदर्शन कर रहे लोगों ने कहा कि अगर SC/ST कानून में सरकार ने बदलाव नहीं किए तो इससे भी बड़ा आंदोलन होगा।

राजस्थान
समूचे प्रदेश में कड़ी सुरक्षा के बीच शांति के साथ शुरू हुआ। बंद के मद्देनजर राज्य सरकार ने पुलिस को कानून एवं शांति व्यवस्था बनाए रखने के निर्देश दिया है तथा एहतियात के तौर पर दस जिलों में अतिरिक्त पुलिस कंपनिया तैनात की गई है। बंद के मद्देनजर जयपुर सहित समूचे प्रदेश में अधिकांश गैर सरकारी शिक्षण संस्थाओं ने स्कूलों में अवकाश घोषित कर दिया वहीं व्यापारिक प्रतिष्ठानों ने पहले से ही अपने प्रतिष्ठान बंद रखने का ऐलान कर रखा है।

मध्यप्रदेश
बंद को देखते हुए समूचे मध्यप्रदेश में पुलिस-प्रशासन अलर्ट पर है। पुलिस-प्रशासन ने संवेदनशील इलाकों में सुरक्षा व्यवस्था बढ़ा दी है। इसी साल 2 अप्रैल को भारत बंद के दौरान मध्यप्रदेश के कुछ हिस्सों में हुई हिंसा और कई लोगों की मौत के बाद अब प्रशासन ने ऐसे क्षेत्रों में अतिरिक्त सुरक्षा बल तैनात किया है। प्रदेश के छतरपुर, ग्वालियर, भिंड, शिवपुरी, मुरैना और श्योपुर जिलों में जिला प्रशासन ने ऐहतियातन निषेधाज्ञा लागू कर दी है। निषेधाज्ञा के दौरान इन जिलों की सीमाओं में कोई भी रैली, जुलूस, शोभायात्रा, धरना-प्रदर्शन और सार्वजनिक सभा आदि बिना सक्षम प्राधिकारी की अनुमति के प्रतिबंधित रहेंगें। साथ ही सोशल मीडिया पर किसी भी ऐसे संदेश का आदान-प्रदान नहीं किया जाएगा।

उत्तर प्रदेश
राज्य में पुलिस अलर्ट पर है। लखनऊ समेत बिजनौर, इलाहाबाद, आजमगढ़, बरेली जैसे कई शहरों में सुरक्षा के कड़े प्रबंध किए गए हैं।

Related Stories:

RELATED सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बगैर राम मंदिर बना तो कानून व्यवस्था बिगड़ने की संभावनाः रामदेव