पिंगलाघर में गर्भवती हुई 22 वर्षीय युवती, अधेड़ से करवाया विवाह

जालंधर: पिंगलाघर में 22 वर्षीय मानसिक रोगी के गर्भवती होने के बाद उसका विवाह अधेड़ के साथ करवाने के मामले की जांच जिला प्रशासन ने शुरू कर दी है। डिप्टी कमिश्नर वरिन्दर कुमार शर्मा ने इस मामले की तरफ ध्यान देते हुए मंगलवार को 6 सदस्यता जांच समिति का गठन करके तीन दिनों में रिपोर्ट देने को कहा है। इसके बाद पिंगलाघर पहुंची जांच समिति ने गर्भवती मानसिक रोगी की मैडीकल रिपोर्ट कब्जे में ले ली है। 

एस.डी.एम. शाहकोट नवनीत कौर के नेतृत्व में पिंगलाघर पहुंची जांच समिति ने महिला वार्डों का दौरा किया और स्टाफ से पूछताछ की। पिंगलाघर का रिकार्ड भी कब्जे में ले लिया है। इस दौरान सिविल अस्पताल की महिला डॉक्टर भी उनके साथ थी। एस.डी.एम. ने कहा कि पीड़िता का मैडीकल रिकार्ड व मैडीकल हिस्ट्री महत्व रखती है। जांच में सामने आया है कि पीड़िता को मानसिक रोग की दवाएं भी दी जाती थी। इन दवाओं बारे किसी मानसिक रोगों के माहिर के पास से राय ली जाएगी। वहीं ही इस मामले के हर पहलू की जांच करते समय इसके साथ जुड़े हर व्यक्ति से पूछताछ करके सच्चाई सामने लाई जाएगी।

पिंगलाघर प्रशासन ने छिपाई लड़की के बालिग होने की जानकारी 
इस दौरान खुलासा हुआ है कि पिंगलाघर प्रशासन ने पीड़ित लड़की के बालिग हो जाने की जानकारी प्रशासनिक आधिकारियों को नहीं दी थी। डिस्ट्रिक्ट प्रोग्राम अफसर नरिन्दर सिंह ने कहा कि पिंगलाघर की रुटीन जांच की गई थी। तब पिंगलाघर प्रशासन ने उनको यह जानकारी ही नहीं दी थी कि पीड़ित लड़की बालिग हो चुकी है यदि उनको जानकारी होती तो उसे तुरंत शिफ्ट करवा दिया जाता। 

Related Stories:

RELATED बूटा पिंड में 22 साल की विवाहिता ने लगाया फंदा, मौत