स्वच्छ भारत अभियान पर लग रहे प्रश्नचिन्ह

फगवाड़ा(जलोटा): फगवाड़ा में कई प्रमुख स्थानों पर लगे हुए कूड़े के ढ़ेर सरकारी तौर पर चलाए जा रहे स्वच्छ भारत अभियान पर गंभीर प्रश्नचिन्ह लगा रहे हैं। आलम यह है कि न तो उक्त जनसमस्या को लेकर नगर निगम गंभीर है और न ही इसका ठोस समाधान होता दिखाई दे रहा है, और तो और कूड़े को सुनयोजित ढंग से डिस्पोज करने के लिए फगवाड़ा में नगर निगम द्वारा लाखों रुपए खर्च कर वार्ड नंबर-19 में लगाया गया बायोकंपैक्टर प्रोजैक्ट भी रहस्यमय कारणों के चलते अब पूरी तरह से ठप्प होकर रह गया है। ऐसा क्यों है अथवा इसके पीछे क्या वजह रही है, इसका आधिकारिक तौर पर कुछ भी खुलासा नहीं किया जा रहा है। 

इसका प्रमाण वार्ड नंबर-19 में पुराना डाकखाना रोड पर शुरू किए गए उक्त प्रकल्प के पूरी तरह से ठप्प होने से बिना ज्यादा कहे अथवा लिखे मिल रहा है। जारी घटनाक्रम के कारण वार्ड नंबर-19 में कूड़े के ढेर लगे हुए हैं जिसके कारण लोगों को भारी असुविधा हो रही है लेकिन न तो इसका समाधान निगम कर रही है और न ही लोकल प्रशासन बंद पड़े उक्त प्रकल्प की ओर ध्यान दे रहा है और न ही इस जनसमस्या का दूर-दूर तक समाधान होता दिखाई दे रहा है।

बायोकंपैक्टर प्रोजैक्ट को चालू करवाने के लिए नगर निगम कमिश्नर से करेंगे बात : पार्षद मुनीष
मामले को लेकर जब वार्ड नंबर-19 के कांग्रेसी पार्षद मुनीष प्रभाकर से पूछा गया तो उन्होंने स्वीकारा कि उनके वार्ड में निगम द्वारा पायलट प्रकल्प के तौर पर शुरू किया गया बायोकंपैक्टर प्रोजैक्ट पिछले लंबे समय से ठप्प पड़ा है। वह मामले को लेकर नगर निगम कमिश्नर बख्तावर सिंह से बात करेंगे और इस प्रकल्प को पुन: चालू करने के लिए आग्रह करेंगे। उन्होंने कहा कि वह बतौर पार्षद लोगों को हो रही असुविधा व पेश आ रही समस्या के समाधान के लिए पूर्ण प्रयास करेंगे। 

Related Stories:

RELATED फीका पड़ रहा है स्वच्छ भारत मुहिम की लहर का प्रभाव