2018 में कम लगा डेंगू का डंक

नई दिल्ली(अंकुर शुक्ला) :मौजूदा वर्ष पिछले चार वर्षों की तुलना में सबसे कम डेंगू प्रभावित वर्ष साबित हुआ है। पिछले कुछ वर्षों में जहां जुलाई और अगस्त माह में राजधानी दिल्ली में डेंगू के सैकड़ों मामले सामने आ जाते थे लेकिन इस वर्ष प्रत्येक हफ्ते कुछ ही मामले सामने आए हैं। नतीजतन 18 अगस्त तक डेंगू के मामलों की कुल संख्या 69 तक ही पहुंच पाई है। यह आंकड़ा पिछले वर्षों की तुलना में काफी कम है। 2015 में डेंगू के 15,867 मामले थे (277 अगस्त से तीसरे सप्ताह तक),  2016 में 4431, 2017 में 4726, लेकिन 2018 में केवल 69 मामले ही सामने आए हैं।  

सावधानी है बेहद जरूरी  
भले ही डेंगू ने इस वर्ष लोगों को कम बीमार किया हो बावजूद इसके डॉक्टरों ने डेंगू से सावधानी बरतने की सलाह दी है। डॉक्टरों और अधिकारियों को अब भी इस बात की आशंका है कि पिछले कुछ दिनों में लगातार बारिश होने के कारण विभिन्न स्थानों पर जलजमाव हो चुका है। जो डेंगू के मामलों में बढ़ोत्तरी का कारण साबित हो सकता है। रिपोर्ट इस बात की भी तस्दीक करती है कि पिछले वर्षों की तुलना में मौजूदा वर्ष में न केवल डेंगू बल्कि अन्य मच्छरजनित बीमारियों का भी प्रभाव कम है।

18 अगस्त, 2018 तक दिल्ली में मलेरिया के 131 मामले सामने आए हैं। जबकि बीते वर्ष 577 लोगों को मलेरिया ने बीमार कर दिया।  अगस्त 2017 में जहां चिकनगुनिया के मामले 599 था। वहीं अगस्त 2018 में मलेरिया के कुल 41 मामले ही सामने आए हैं। सफदरजंग सामुदायिक मेडिसिन विभाग के निदेशक और एचओडी प्रोफेसर जुगल किशोर के मुताबिक पिछले कुछ दिनों के दौरान बारिश होने के बाद मलेरिया के मामलों में तेजी देखी गई है। ऐसे में मच्छरों के संभावित प्रजनन क्षेत्र में साफ-सफाई के साथ उन्हें सूखा रखने की जरूरत है। 

Related Stories:

RELATED राजधानी में 2100 के पार पहुंचे डेंगू के मामले: रिपोर्ट