वेदांता का स्थान दुनिया अग्रणी खनिज कंपनियों में होगा: नए सीईओ

नई दिल्लीः वेदांता रिसोर्सेज के नए मुख्य कार्यकारी अधिकारी (सीईओ) श्रीनिवासन वेंकटकृष्णन को विश्वास है कि वेंदाता समूह निया की प्रमुख खनिज संसाधन कंपनियों में स्थान बना सकता है। उन्होंने कहा कि समूह भारत के बाहर अपने कारोबार का विस्तार करेगा पर इस मामले में भारत की योजनाओं के साथ कोई कोताही नहीं बरती जाएगी।

वेदांता कच्चा तेल से लेकर तांबा और एल्युमीनियम क्षेत्र में खनन से लेकर प्रसंस्करण तक के काम में लगी है। कृष्णन 31 अगस्त को टॉम अल्बानीज की जगह सीईओ बने। वेंकटकृष्णन (53) सोने के कारोबार में दुनिया की सबसे बड़ी कंपनियों में एक एग्लोगोल्ड में सीईओ थे। उन्होंने ने कहा कि वह भारत का ऋण चुकाना चाहते है और इस कंपनी को उन जिंसों का उत्पादन करने वाली दुनियां की प्रमुख कंपनियों में शामिल करना चाहते हैं जिनकी भारत को जरूरत है ताकि आयात पर निर्भरता कम हो, रोजगार के अवसर बढ़ें तथा गरीबी कम हो।

उन्होंने कहा, 'बड़े पैमाने पर अवसर मौजूद हैं, वेदांता दु्िनया की सबसे बड़ी खनिज संसाधन वाली कंपनियों में गिनती कराना चाहती है।' उन्होंने कहा, 'यदि आप कई क्षेत्रों में काम करने वाली कंपनियों को देंखे, तो यह बड़ी मजबूत और ऊंची विरासत का परिणाम है। जहां तक भारत का संबंध है, वेदांता की विरासत मजबूत है। एक्सॉन की जड़ें अमेरिका में है, बीपी ब्रिटेन से पहचानी जाती है। इसी प्रकार, वेदांता की जड़ें भारत से शुरू हुई हैं।’ 
 

Related Stories:

RELATED IOC ने की ईरान से अक्तूबर के लिए तेल आयात की बुकिंग