शादीशुदा किशोरियों में 32 फीसदी 15-19 साल की उम्र में बनीं मां: रिपोर्ट

 नई दिल्ली: देश में पिछले कुछ वर्षों में शादीशुदा किशोरियों में से 32 फीसदी 15 से 19 साल की उम्र में मां भी बनीं। एक रिपोर्ट में यह बात सामने आई है। राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग (एनसीपीसीआर) और राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग की ओर से बाल विवाह और किशोरावस्था में गर्भवती होने से जुड़ी रिपोर्ट बुधवार को जारी गई। यह रिपोर्ट 2015-16 की अवधि की है। 

किशोरावस्था में मां बनना अभी भी एक चिंता का विषय 
इस रिपोर्ट में कहा गया है कि देश में बाल विवाह के मामलों में कमी आई है, लेकिन लड़कियों के किशोरावस्था में मां बनना अभी भी एक चिंता का विषय बना हुआ है। रिपोर्ट के अनुसार कुल शादीशुदा किशोरियों में 32 फीसदी 15-19 साल की उम्र में मां बनीं और यह बेहद का ङ्क्षचता का विषय है। इसमें कहा गया है कि बाल विवाह के संदर्भ में राजस्थान, पश्चिम बंगाल, त्रिपुरा, असम, बिहार और झारखंड के कई जिलों पर विशेष नीतिगत ध्यान देने की जरूरत है। रिपोर्ट के मुताबिक ग्रामीण भारत में 15-19 साल की उम्र में बाल विवाह का आंकड़ा 14.1 फीसदी और तो शहरी भारत में यह आंकड़ा 6.9 फीसदी है।  गौरतलब है कि भारत में लड़कियों के लिए शादी की कानूनी उम्र 18 साल और लड़कों के लिए 21 साल है।      

यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!
× RELATED दिव्यांगों के कार्यक्रम में बाबुल सुप्रियो ने दी टांग तोड़ने की धमकी, वीडियो हुआ वायरल