वॉलमार्ट-फ्लिपकार्ट डीलः NCLAT ने पूछा- भारत में क्या होगा बिजनेस मॉडल?

बिजनेस डेस्कः नेशनल कंपनी लॉ अपीलीट ट्रिब्यूनल (एनसीएलएटी) ने वालमार्ट और फ्लिपकार्ट से उनके बिजनेस मॉडल की जानकारी मांगी है। पिछले महीने कैट ने इस सौदे के खिलाफ ट्रिब्यूनल में अपील की थी। इस मामले की सुनवाई के बाद ट्रिब्यूनल ने वालमार्ट से जानकारी मांगी है कि भारत में उनके काम करने का क्या तरीका होगा। वालमार्ट और फ्लिपकार्ट को 20 सितंबर तक इसका जवाब देना होगा।

डील के खिलाफ व्यापारी
बता दें कि फ्लि‍पकार्ट और वॉलमार्ट की डील को कॉम्पिटीशन कमीशन ऑफ इंडि‍या (सीसीआई) ने मंजूरी दे दी है। इसके साथ ही वालमार्ट की ओर से 16 अरब डॉलर में फ्लि‍पकार्ट में 77 फीसदी हि‍स्‍सेदारी लेने का रास्‍ता साफ हो गया है। डील को मंजूरी मि‍लने के बाद कारोबारी संगठन कन्फेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स (कैट) ने कहा है कि‍ उसने इस फैसले के खि‍लाफ कोर्ट में अपील कर दी है।

28 सितंबर को देश बंद करेंगे व्यापारी 
कनफेडरेशन ऑफ आल इंडिया ट्रेडर्स (कैट) आगामी 15 सितंबर से वॉलमार्ट-फ्लिपकार्ट सौदे के खिलाफ राष्ट्रीय आंदोलन शुरू करेगा। इसकी शुरुआत राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली से होगी। कैट ने 28 सितंबर को भारत व्यापार बंद का भी आह्वान किया है। व्यापारियों का कहना है कि वॉलमार्ट भले ही देश में ऑनलाइन मार्केट के जरिए एंट्री कर रही है लेकिन आगे चलकर वह ऑफलाइन बाजार में आएगी। भारतीय रिटेलर्स के लिए लेवल प्‍लेइंग फील्‍ड समान नहीं रहेगा और वे कॉम्पिटीशन में पिछड़ जाएंगे। उनका बिजनेस बर्बाद हो जाएगा। 

Related Stories:

RELATED वॉलमार्ट-फ्लिपकार्ट सौदे के खिलाफ व्यापारियों का प्रदर्शन, शुरू की 90 दिनों की यात्रा