नवाज ने जेआईटी जांच को किया खारिज

इस्लामाबाद:पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ ने सोमवार को संयुक्त जांच दल (जेआईटी) की जांच को खारिज करते हुए दावा किया कि जांच पक्षपातपूर्ण और राजनीति से प्रेरित है। पाकिस्तान मुस्लिम लीग-नवाज के नेता ने जवाबदेही अदालत में पेश होने के दौरान यह वक्तव्य जारी किया। 

पनामागेट घोटाला सामने आने के बाद नेशनल जवाबदेही ब्यूरो ने अल अजिजिया भ्रष्टाचार मामले की इस अदालत में सुनवाई की जा रही है। नवाज ने अदालत में कहा कि अल अजिजिया मामले में जेआईटी की जांच जानिबदार है तथा यह सबूतों पर भी आधारित है। उन्होंने सुनवाई के दौरान दोहराया,"जेआईटी की ओर से रिकॉर्ड किया गया वक्तव्य स्वीकार्य सबूत नहीं है।" शरीफ ने अदालत को बताया कि विदेश से उनके खाते में जमा की गयी धनराशि का ब्योरा के बारे में एफबीआर रिकॉर्ड में सही दस्तावेज के साथ उल्लेख है।

उन्होंने कहा कि उन्होंने अपनी याचिका में इस ओर इंगित किया है कि जेआईटी केवल जांच एजेंसी है और इसलिए इसकी ओर से दर्ज किया गया कोई भी वक्तव्य को अदालत में सबूत के तौर पर पेश नहीं किया जा सकता। शरीफ ने अदालत को बताया कि वह कभी भी अल अजिजिया इस्पात मिल की बिक्री में किसी प्रकार के लेनदेन में शामिल नहीं थे। विदेशों से उनके खाते में आई सारी धनराशि का ब्योरा उनके आयकर भुगतान में उपलब्ध है तथा इसी वजह से वह अपनी इच्छानुसार खर्च करने को भी स्वतंत्र हैं।  

Related Stories:

RELATED नवाज के भाई शहबाज को न्यायिक रिमांड पर भेजा जेल