गिरफ्तारी के बावजूद भी समर्थकों ने मनाई नाथूराम गोडसे की जयंती

पलवल (दिनेश):पलवल में पुलिस और प्रशासन के विरोध के बावजूद भी नाथू राम गोडसे की जयंती मनाई गई। हालांकि इस मामले में जंयती के मुख्य संयोजक प्रशांत जाखड़ को गिरफ्तार किया गया। वहीं कार्यक्रम स्थल से जयंती मनाने आए लोगों को खदेड़ा गया, बावजूद इसके उन्होंने एक भोजनालय में नाथूराम को याद किया।

दरअसल, सोशल मीडिया पर कुछ लोगों द्वारा शनिवार की सुबह से ही नाथू राम गोडसे की जयंती मनाने की घोषणा के बाद दूसरा पक्ष सक्रिय हो गया, गोडसे के समर्थक जयंती न मना पाएं इसके लिए हर तरह की कोशिश शुरू कर दी।

PunjabKesari, nathram

जाट धर्मशाला में नाथू राम गोडसे जयंती मनाई जाने के विरोध में कई लोगों ने सवालिया निशान लगाया कि आखिरकार जाट धर्मशाला में जयंती मनाने की अनुमति किसने दी? ज्यादा विरोध होने पर जाट धर्मशाला के प्रबंधकों ने हाथ खड़े कर दिए तो जयंती रेलवे रोड स्थित ब्राह्मण धर्मशाला में मनाये जाने का निर्णय ले लिया गया। इस बीच प्रशासन और पुलिस हरकत में आया और जंयती के मुख्य संयोजक प्रशांत जाखड़ को बीती रात को ही गिरफ्तार कर लिया गया।

वहीं जाखड़ की गिरफ्तारी के विरोध में रात को ही अनेकों संगठन सामने आया, लेकिन जाखड़ को नहीं छोड़ा गया। उधर, जाट धर्मशाला में कार्यक्रम के रद्द होने के बाद रविवार को ब्राह्मण धर्मशाला में जयंती मनाने का निर्णय लिया गया, लेकिन पुलिस इसकी सूचना पाकर वहां पहुंच गई और एकत्रित लोगों को वहां से खदेड़ कर पीसीआर तैनात कर दी। जिसके बाद जयंती मनाने पर अड़े गोडसे के समर्थकों ने स्वदेशी भोजनालय में जाकर नाथू राम गोडसे को याद किया तथा उसे सच्चा देश भक्त बताया। 

यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!