Kundli Tv- नाग पंचमी: अब कालसर्प योग नहीं करेगा परेशान

ये नहीं देखा तो क्या देखा (देखें VIDEO)
PunjabKesari

कालसर्प योग से ग्रसित व्यक्ति को हमेशा शारीरिक कष्ट उठाने पड़ते हैं। उसके रोग का निदान नहीं हो पाता। विद्यार्जन में बाधाएं उपस्थित होती हैं और अगर किसी तरह विद्याभ्यास पूर्ण हुआ भी तो उस प्राप्त शिक्षा का उपयोग उसके जीवन में नहीं होता। जीवन भर संघर्ष करना पड़ता है, संकटों की परम्परा चलती ही रहती है। रिश्तेदारों का व्यर्थ विरोध होता है। लोगों में गलतफहमी होती है। पति, पुत्र या पत्नी का सुख नहीं मिलता। कोर्ट-कचहरी मुकद्दमों में पैसा एवं शक्ति खर्च होती है तथा बंधन योग आकर जेल में जाना पड़ता है। दोस्तों द्वारा विश्वासघात होता है। दुख उठाना पड़ता है। कर्ज बढ़़ता जाता है। घर में बरकत नहीं रहती। वास्तुदोष वाले मकान में रहना पड़ता है। अतृप्त आत्माओं के कारण तकलीफ पहुंचती है। पत्नी, पुत्र-पुत्री का बर्ताव अच्छा नहीं होता। पुत्र-पुत्री का विवाह उचित समय पर नहीं होता। संपत्ति का अभाव रहता है। परिवार के प्रिय व्यक्ति का वियोग होता है। घर का कोई व्यक्ति किसी कारण घर छोड़कर चला जाता है तो वर्षों तक उसका पता नहीं चलता। परिवार में से कोई डूबकर या अपघात में अकाल मृत्यु को प्राप्त होता है। दूसरों के काम ये आते हैं, लेकिन इनकी कोई सहायता नहीं करता। धंधे में दिवाला पिट जाता है-बुरा ही बुरा होता है, अच्छा कुछ नहीं होता। 
PunjabKesari
कालसर्प का उपाय: चांदी का नाग (जिसमें लहसुनिया नग की आंख लगी हो और पूंछ पर गोमेद नग लगा हो। चांदी की नागिन (जिसमें लहसुनिया की आंख, पूंछ पर गोमेद नग लगा हो। नाग पंचमी के दिन अथवा पूर्णिमा के दिन काले तिल, एक सूखा नारियल के साथ रख कर पूजन करवा कर जल प्रवाह कर दें। 
PunjabKesari
यह उपाय शिवरात्रि के दिन अथवा श्रावण मास के किसी भी सोमवार को शिवरुद्राभिषेक के बाद भी किया जा सकता है। इसके अतिरिक्त 3 पूर्णिमा 4 अमावस को भी चांदी के नाग-नागिन के जोड़े से ऐसे ही ऊपर लिखे सामान के साथ पूजन करके जल विसर्जन करें।

कालसर्प के पूजन के लिए दूसरा उपाय: 18 सूखे नारियल लेकर किसी भी रविवार को 18 अलग-अलग मंदिरों में जाकर किसी भी मूर्ति के आगे एक-एक नारियल दक्षिणा सहित रख कर आएं। सारे 18 नारियल चढ़ा कर घर लौटना है।
PunjabKesari
कालसर्प के पूजन के लिए तीसरा उपाय:करें इन मंत्रों का जाप 
स्पेशल नाग मंत्र:ॐ भुजंगेशाय विद्महे, सर्पराजाय धीमहि, तन्नो नाग: प्रचोदयात्॥
स्पेशल शिव मंत्र:ॐ नागेश्वराय नमः॥
भगवान बनाकर भेजते हैं इन 3 नाम वालों की जोड़ियां (देखें VIDEO)

यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!