बेहतर इंसान बनना चाहते हैं? जरूर पढ़ें मदर टेरेसा के ये विचार

मदर टेरेसा का आज 108वां जन्मदिन है। उनका जन्म 26 अगस्त 1910 को हुआ था। दुनिया में और खास तौर से भारतीय उपमहाद्वीप में ऐसा ही कोई होगा जो मदर टेरेसा के नाम से वाकिफ न हो। उन्होंने अपनी पूरा जिंदगी दूसरों की सेवा में समर्पित कर दी। जानते हैं उनके ऐसे प्रेरेणादायक विचारों के बारे में जो आपकी जिंदगी को बेहतर बना देंगे।

PunjabKesari

मदर टेरेसा के अनमोल विचार...

- मैं चाहती हूं कि आप अपने पड़ोसी के बारे में चिंतित रहें। क्या आप अपने पड़ोसी को जानते हो?

- यदि हमारे बीच कोई शांति नहीं है, तो वह इसलिए क्योंकि हम भूल गए हैं कि हम एक दूसरे से संबंधित हैं।

- यदि आप एक सौ लोगों को भोजन नहीं करा सकते हैं, तो सिर्फ एक को ही भोजन करवाएं।

- यदि आप चाहते हैं कि एक प्रेम संदेश सुना जाए तो पहले उसे भेजें। जैसे एक चिराग को जलाए रखने के लिए हमें दिए में तेल डालते रहना पड़ता है।

- अकेलापन सबसे भयानक गरीबी है।

- प्यार करीबी लोगों की देखभाल लेने के द्वारा शुरू होता है, जो आपके घर पर हैं।

- अकेलापन और अवांछित रहने की भावना सबसे भयानक गरीबी है।

-  प्यार हर मौसम में होने वाला फल है, और हर व्यक्ति के पहुंच के अंदर है।

-  आज के समाज की सबसे बड़ी बीमारी कुष्ठ रोग या तपेदिक नहीं है, बल्कि अवांछित रहने की भावना है।

- प्यार के लिए भूख को मिटाना रोटी के लिए भूख की मिटने से कहीं ज्यादा मुश्किल है।

- जख्म भरने वाले हाथ प्रार्थना करने वाले होंठ से कहीं ज्यादा पवित्र हैं।

PunjabKesari

यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!