बालाश्रम में बच्चियों का होता था यौन उत्पीडऩ, रो-रो कर पुलिस को सुनाई आपबीती

कठुआ  (गुरप्रीत) : अवैध तरीके से चलाए  जा रहे अनाथ आश्रम पर दबिश देते हुए प्रशासनिक टीम से बच्चियों द्वारा उत्पीडऩ की शिकायत के बाद प्रशासन हरकत में आया है। शिकायत के बाद वहां से प्रशासन ने आठ छोटी बच्चियों और 12 छोटे लडक़ों को रेस्क्यू करते हुए उन्हें बाल आश्रम एवं नारी निकेतन लाया  है। जानकारी के अनुसार  निजी आश्रम में रहने वाले बच्चे आसपास के सरकारी स्कूलों में पढ़ते हैं जिन्होंने स्कूल में शिक्षकों के साथ इस तरह की शिकायत की थी। जिसके बाद मामला प्रशासन के संज्ञान में लाया गया। 
प्रशासन को शिकायत मिली थी कि बस अड्डे से सटे मोहल्ले में एक निजी मकान में अवैध तरीके से अनाथ आश्रम चल रहा है।  शिकायत के आधार पर ए.सी.आर. जितेेंद्र मिश्रा, तहसीलदार जय सिंह सहित महिला थाना की प्रभारी संजीवन ज्योति सहित अन्य महिला अधिकारियों ने वहां दबिश दी। मौके पर टीम ने बच्चियों के साथ पूछताछ भी की।

बच्चियों ने टीम को बताया कि उनके साथ यहां के संचालक यौन उत्पीडऩ भी करता है। जिसके  बाद टीम ने पूरे घर को सर्च करते हुए वहां से कंप्यूटर, सी.डी., मोबाइल फोन सहित अन्य कुछ खाने का सामान जब्त किया है। वहीं, मीडिया से बातचीत में आश्रम के संचालक थामस एंटनी ने बताया कि वह यहां जरूरतमंद बच्चों के लिए सेवा करते हैं जबकि उनपर लगाए जाने वाले सारे आरोप बेबुनियाद हैं। पुलिस ने बाद में सभी बच्चों को रेस्क्यू करने के बाद आश्रम संचालक को भी पूछताछ के लिए हिरासत में ले लिया। 


वहीं, ए.सी.आर. जितेंद्र मिश्रा ने बताया कि शिकायत के आधार पर ही कार्रवाई की गई। हालांकि पहले यहां संचालक ने उन्हें किसी मिशनरी संस्थान की शाखा इसे बताया था जांच करने पर पता चला कि यहां आश्रम किसी भी संस्थान की शाखा से प्रमाणित नहीं है। उन्होंने कहा कि यहां रहने वाले बच्चियों ने यौन उत्पीडऩ की शिकायत भी की है जिसके आधार पर कार्रवाई की गई है। पुलिस मामले की जांच कर रही है।
  
 

यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!