ऑफ द रिकॉर्डः  मोदी की सुषमा को तसल्ली, तोड़े नियम

नेशनल डेस्कः एक अभूतपूर्व कदम उठाते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उन नियमों को तोड़ दिया जो उन्होंने 4 साल पहले निर्धारित किए थे-मीडिया से दूर रहो। मोदी ने सत्ता में आने के बाद 2014 में फैसला किया था कि वह भारत और विदेश में कहीं भी अपने सरकारी विमान में प्रैस वालों को साथ नहीं ले जाएंगे। इतना ही नहीं, उन्होंने यह संकेत भी दिया कि भारत के राष्ट्रपति और उपराष्ट्रपति अपने साथ कहीं भी प्रैस टीम को नहीं ले जाएंगे। वी.वी.आई.पी. चार्टर्ड विमान की उड़ानें आदि खाली रहती थीं और मीडिया कर्मचारी कार्यक्रम को कवर करने के लिए अलग से विमान में जाते थे मगर अब परम्परा को तोड़ते हुए मोदी ने विदेश मंत्री सुषमा स्वराज को 4 दिवसीय विश्व हिंदी सम्मेलन में शामिल होने के लिए मॉरीशस जाने हेतु एक विशेष वी.वी.आई.पी. विमान उपलब्ध करवाया।
PunjabKesari
यही नहीं, इस सरकारी विमान में मॉरीशस में सम्मेलन में जाने वाले 300 से अधिक प्रतिनिधि भी गए हैं जिनमें कुछ पत्रकार भी शामिल हैं। 4 वर्षों में यह पहली बार है कि स्वतंत्र मीडिया के पत्रकार भी सरकारी विमान से मॉरीशस गए हैं। अतीत में सम्मेलन में आमंत्रित प्रतिनिधियों को विदेश मंत्रालय द्वारा कर्मिशयल उड़ानों का टिकट दिया जाता था। राजधानी के राजनीतिक गलियारों में यह कहा गया कि प्रधानमंत्री की इस पेशकश से स्पष्ट होता है कि सुषमा स्वराज उनके चहेतों की सूची से बाहर नहीं हैं। यही नहीं उन्होंने इसके लिए नियम भी तोड़े। पूर्व प्रधानमंत्री वाजपेयी के निधन के कारण सुषमा स्वराज सम्मेलन में देर से गईं।
PunjabKesari
पिछले कुछ वर्षों से सुषमा स्वराज का ग्राफ कई गुना बढ़ा है। पिछले वर्ष मोदी ने सुषमा की इस बात को लेकर काफी प्रशंसा की थी कि संयुक्त राष्ट्र महासभा में उनका अभिभाषण बहुत बढिय़ा था। प्रधानमंत्री ने विश्वभर में भारतीयों की मदद करने के लिए सोशल मीडिया का प्रभावी ढंग से इस्तेमाल करने के लिए सुषमा का विशेष उल्लेख किया जिसने उनके मंत्रालय को ‘मानवीय चेहरा’ करार दिया।

PunjabKesari

यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!
× RELATED सामने आई इमरान की मोदी को लिखी चिट्ठी, आपसी वार्ता से लेकर वाजपेयी तक का जिक्र