हादसे में लापता हुए युवक का 9 दिन बाद भी नहीं लगा कोई सुराग, परिजनों ने CM से उठाई ये मांग

चम्बा/सुंदरनगर (नितेश सैनी):हिमाचल के चंबा-खजियार मार्ग पर हुए भूस्खलन में लापता चालक का अभी तक कोई भी सुराग हाथ नहीं लग पाया है। पिछले मंगलवार रात 2 बजे चम्बा-खजियार मार्ग पर मंगला के समीप भारी भूस्खलन में में दो पोकलैंड मशीनो सहित वहां से गुजर रही एक पिकअप गाड़ी चपेट में आ गई थी। एक पोकलैंड मशीन के चालक को मामूली चोट आई तो गाड़ी का चालक बुरी तरह से घायल हो गया जिसका इलाज स्थानीय अस्पताल में चल रहा है तो एक अन्य पोकलैंड मशीन चालक मलबे में दब गया था। लेकिन मलबे में दबे चालक रवि ठाकुर का 9 दिन के सर्च ऑपरेशन के बाद भी कोई सुराग हाथ नहीं लग पाया है। 

चंबा-चुवाड़ी बाया जोत मार्ग (चंबा-खजियार) मार्ग पिछले 9 दिनों से बंद पड़ा हुआ है। जिससे आने जाने वाले लोगों को भारी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। हालांकि प्रशासन ने लापता चालक को खोजने में पूरी ताकत झोंक डाली है और दिन-रात यहां पर पुलिस सहित आर्मी के जवान मशीन सहित चालक को ढ़ूंढने का प्रयास कर रहे हैं। लेकिन इसके बावजूद भी प्रशासन को कोई भी कामयाबी हासिल नहीं हो पाई है। भूस्खलन इतना ज्यादा हुआ है कि अभी तक यही पता नहीं लगाया जा रहा है कि आखिर जेसीबी मशीन व उसका चालक कौन सी जगह पर जमीन के नीचे दबे हुए हैं।

सुंदरनगर के धन्यारा पंचायत के ग्रामीणों ने प्रदेश सरकार व मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर से मांग की है कि रवि ठाकुर एक गरीब परिवार से संबंध रखता है जोकि अपनी रोजी रोटी के लिए चम्बा किसी सरकारी ठेकेदार के पास जेसीबी मशीन चलाने काम करता था। लेकिन भूस्खलन होने से 9 दिन बाद भी लापता है। लोगों ने इस गरीब परिवार को आर्थिक मदद देने की मांग की है। क्योंकि 21 साल का रवि ठाकुर ही इनका पालन पोषण करता था। दीप्ति मंढोत्रा ने बताया कि भूस्खलन की वजह से एक मशीन और उसका चालक मलबे के नीचे दब गए थे। सर्च ऑपरेशन चला लगातार जारी है। लापता चालक को जल्द ढूंढ लिया जाएगा।

Related Stories:

RELATED अब अपराधियों का सुराग लगाना होगा और आसान, पढ़ें पूरी खबर