ALERT! जल्द बदलें अपना फेसबुक पासवर्ड, 60 करोड़ यूजर्स के अकाउंट के साथ हुई छेड़छाड़

नई दिल्लीःफेसबुक पर यूजर्स का डेटा असुरक्षित रखने और उसे शेयर करने के आरोप काफी समय से लगते आए है जिसके कारण फेसबुक सवालों के घेरे में घिरी हुई है। इसी बीच गुरुवार को कंपनी ने इनमें से एक पर अपनी गलती मानी है। फेसबुक ने माना कि उसने लाखों यूजर्स के पासवर्ड्स अपने इंटरनल सर्वर पर प्लेन टेक्स्ट की तरह सिक्यॉरिटी स्लिप पर सेव किए थे और इस तरह फेसबुक में काम करने वाला कोई कर्मचारी इन्हें पढ़ सकता था।एक ब्लॉग पोस्ट में इंजिनियरिंग, सिक्यॉरिटी ऐंड प्राइवेसी वीपी पेड्रो कनाहौती ने इसकी जानकारी देते हुए लिखा कि फेसबुक से बाहर कोई भी इन्हें ऐक्सेस नहीं कर सकता था।


सिक्यॉरिटी में यह गड़बड़ तब सामने आई है जब फेसबुक पहले ही कई आरोपों और विवादों का सामना कर रहा है और इनमें सबसे बड़ा मुद्दा यूजर्स के डेटा की प्राइवेसी और सिक्यॉरिटी का है। यह गड़बड़ फेसबुक के 'हैकर वे' मंत्र से भी बिल्कुल उलट है, जिसका जिक्र कंपनी सीईओ मार्क जकरबर्ग ने हाल ही में किया था। 'वन हैकर वे' कैलिफोर्निया में स्थित फेसबुक हेडऑफिस का मेन अड्रेस भी है। सिक्यॉरिटी न्यूज Kerbsonsecurity.com के ब्रायन कर्ब्स ने एक अनाम फेसबुक सोर्स के हवाले से इससे प्रभावित यूजर्स के आंकडे़ दिए हैं।

पेड्रो ने ब्लॉगपोस्ट में लिखा, 'स्पष्ट कर दें, ये पासवर्ड्स फेसबुक के बाहर किसी को भी दिख नहीं सकते थे और साथ ही हमारे किसी कर्मचारी ने इंटरनली इनका गलत यूज किया है या इन्हें ऐक्सेस किया है, ऐसा भी कोई मामला सामने नहीं आया है।' उन्होंने बताया है कि इस साल हुए एक सिक्यॉरिटी रिव्यू में यह गड़बड़ सामने आई। उन्होंने कहा कि फेसबुक अपने करोड़ों फेसबुक लाइट यूजर्स, लाखों फेसबुक ऐप यूजर्स और हजारों इंस्टाग्राम यूजर्स को नोटिफिकेशन दे सकता है कि हो सकता है उनके पासवर्ड्स किसी ने इस गड़बड़ के चलते देखे हों।

कर्ब्स के मुताबिक, फेसबुक सोर्स का कहना है कि करीब 60 करोड़ यूजर्स के अकाउंट पासवर्ड्स प्लेन टेक्स्ट फाइल्स में सेव किए गए थे। इन पासवर्ड्स को फेसबुक में काम करने वाले करीब 20 हजार कर्मचारी सर्च और ऐक्सेस कर सकते थे। हालांकि आंकड़ों को लेकर किया गया यह दावा कंफर्म नहीं है, लेकिन कर्ब्स का कहना है कि इन अनएनक्रिप्टेड पासवर्ड्स में 2012 की डेट तक के पासवर्ड्स शामिल थे। फेसबुक की ओर से कहा गया है कि यग गड़बड़ ठीक कर ली गई है, फिर भी यूजर्स को इससे जुड़ा नोटिफिकेशन दिया जाएगा।
 

Related Stories:

RELATED लाखों लोग पासवर्ड के तौर पर कर रहे हैं ‘123456' का इस्तेमाल: अध्ययन