सस्ते टैरिफ से बढ़ी डेटा की डिमांड, स्लो स्पीड से परेशान हुए शहरी यूजर्स

गैजेट डैस्कःडेटा स्पीड और कॉल ड्राप की समस्या देश के मेट्रो और बड़े शहरों में अक्सर देखने को मिलती है। टेलिकॉम कंपनियों के नेटवर्क 85-90 पर्सेंट की क्षमता पर काम कर रहे हैं। ये कंपनियां सस्ते टैरिफ से डेटा खपत की बढ़ी मांग को पूरा करने के लिए जूझ रही हैं। पिछले एक साल में औसत डेटा खपत 2.5 जीबी प्रति यूजर से बढ़कर 9.5 जीबी प्रति यूजर पहुंच गई है। वहीं औसत वॉइस खपत पिछले साल के 400 मिनट प्रति यूजर से बढ़कर 820 मिनट प्रति यूजर हो गई है।

इंडस्ट्री के एक्सपर्ट्स ने बताया कि वॉइस कॉल अब तेजी से डेटा कॉल के जरिए हो रहे हैं। हालांकि इंडस्ट्री 2018 में सिर्फ 50,000-60,000 सेल साइट्स इंस्टाल कर पाई है, जबकि यूजर्स की बढ़ती मांग को पूरा करने के लिए 100,000 से ज्यादा सेल साइट्स की जरूरत है। मोबाइल फोन कंपनियां और नेटवर्क इक्विपमेंट वेंडर्स ने शहरी इलाकों में खासतौर से मांग और आपूर्ति के बीच आई इस कमी को स्वीकार किया है। हालांकि उन्होंने इसके पीछे जरूरत के मुताबिक टेलिकॉम टावर नहीं लगा पाने की अपनी असमर्थता को दोषी ठहराया। उन्होंने कहा कि टेलिकॉम कंपनियां सर्विस क्वॉलिटी सुधारने के लिए टेक्नॉलजी का इस्तेमाल कर रही हैं।

देश की सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी वोडाफोन आइडिया के सीईओ बालेश शर्मा ने बताया, 'हमारे पास स्पेक्ट्रम सीमित है और मांग असीमित है, जिसे साफ देखा जा सकता है। कोई कुछ भी कहे, देश के सभी इलाकों में नेटवर्क पूरी तरह से जाम हैं। लोग यह जानना पसंद करते हैं कि वे नेटवर्क क्षमता के आठवें हिस्से या 50 पर्सेंट क्षमता का इस्तेमाल कर रहे हैं। अगर नेटवर्क इसके मुकाबले फ्री होते, तो स्पीड कहीं ज्यादा होती।'

इंडस्ट्री बॉडी सीओएआई के डायरेक्टर-जनरल राजन मैथ्यूज ने बताया कि इंडस्ट्री जिस सबसे बड़ी मुश्किल का सामना कर रही है, वह नए सेल साइट्स को इंस्टॉल करने के लिए मिलने वाली राइट ऑफ वे (आरओडब्लू) से जुड़ी है। उन्होंने कहा, 'सभी टेलिकॉम कंपनियां कुछ जगहों पर इसका सामना कर रही है। हमारी नेटवर्क कपैसिटी कम हो रही है।' ओकला के को-फाउंडर और जनरल मैनेजर डग सटल्स ने बताया कि पिछले एक साल में भारत के सभी इलाकों की औसत 4जी स्पीड में मामूली सुधार आया है। 2019 की पहली तिमाही में सभी मोबाइल नेटवर्क पर औसत 4जी एलटीई डाउनलोड स्पीड 10.58 Mbps थी, जो 2018 की पहली तिमाही में 9.84 Mbps थी।
 

Related Stories:

RELATED इलैक्ट्रिक व्हीकल्स के लिए अलग कैटेगरी बनाने की डिमांड