मेघालय: 34 दिन बाद नेवी ने कोयला खदान से निकाला पहला शव, 14 मजदूरों की तलाश जारी

शिलांगः मेघालय में एक अवैध कोयला खदान में पिछले एक महीने से ज्यादा समय से चल रहे रेस्क्यू ऑपरेशन के दौरान भारतीय नौसेना के एक दल ने फंसे खनिकों में से एक का शव निकाला है। पिछले 34 दिनों से कोयला खदान में फंसे 15 मजदूरों की तलाश में नेवी ने रेस्क्यू चलाया हुआ है। खबर के मुताबिक नौसेना को मजदूर का शव करीब 200 फीट की गहराई में मिला, बाकी 14 मजदूरों की तलाश अभी जारी है।


उल्लेखनीय है कि पूर्वी जयंतिया हिल्‍स जिले में पिछले साल 13 दिसंबर से अवैध कोयला खदान में फंसे 15 खनिकों को बाहर निकालने की कवायद चल रही थी। नेवी के साथ ही एनडीआरएफ के गोताखोरों की भी इस अभियान में मदद ली जा रही है। खनिकों के रेस्क्यू में ओडिशा दमकल विभाग का एक दल भी मदद कर रहा है। खदान में पास की लितेन नदी का पानी भरने से खदान में काम कर रहे मजदूर अंदर ही फंस गए।

इस रेस्‍क्‍यू ऑपरेशन में भारतीय वायुसेना, भारतीय नौसेना के गोताखोर और नेशनल डिजास्टर रिस्पांस फोर्स (NDRF) की टीम काम कर रही हैं। इसके अलावा रेस्क्यू के लिए पंप और कुछ जरूरी साजो-सामान मुहैया कराने वाली प्राइवेट कंपनी किर्लोस्कर की टीम मौके पर है। वहीं पिछले दिनों सुप्रीम कोर्ट ने कहा था कि रेस्क्यू जारी रखें, कई बार चमत्कार हो जाते हैं। कोर्ट ने रेस्क्यू में तेजी लाने को कहा था। कोर्ट ने कहा था कि खदान में फंसे लोगों के लिए हर मिनट कीमती है, क्योंकि यह उनकी जिंदगी और मौत का सवाल है।

Related Stories:

RELATED कश्मीर से जुड़ी हर चीज का करें बहिष्कार : मेघालय के राज्यपाल