Kundli Tv- सलमान के जीवन में विवाह की रेखा

ये नहीं देखा तो क्या देखा (देखें VIDEO)
मध्य प्रदेश के इंदौर में 27 दिसम्बर, 1965 में मेष लग्र की कुम्भ राशि में जन्मे बॉलीवुड के दबंग और दिग्गज अभिनेता ‘अब्दुल रशीद सलीम सलमान खान’ का जीवन विवादों, यश, एेश्वर्य और प्रसिद्धि से पूर्णत: युक्त है।  


सलमान खान की कुंडली
जन्म कुंडली में लग्र पर मंगल का प्रभाव सलमान खान को चंचल प्रवृत्ति, उद्यमी तथा महत्वाकांक्षी बनाता है। परिणामों की इच्छा किए बिना, कार्य को पूर्ण करना इनकी आदत है, कोई कार्य पसन्द न आने पर उसको तत्काल बदलने से नहीं डरते, कई बार घमंडी प्रवृत्ति भी हो जाती है।


दशम भाव का स्वामी शनि स्वग्रही होकर एकादश भाव में चन्द्र के साथ स्थिति अत्यंत महत्वपूर्ण है। ‘लिखे विधता - स्वयं विधता’ अर्थात् स्वयं ही अपना भाग्य लिख रहा है, व्यापार-व्यवसाय में लाभ ही लाभ मिलेगा जिसके कारण अत्यधिक धनी व्यक्तियों में गिनती होगी। अभिनय व्यवसाय के साथ भूमि से संबंधित कार्य अथवा कृषि के कार्यों को किया जाए तो सफलता चरम सीमा प्राप्त करेगी। 
 

जन्म कुंडली में लग्रेश मंगल का दशम स्थान में होना  ‘रूचक योग’ ‘दिग्बली योग’ और ‘कुलदीप योग’ की स्थापना कर रहा है। साथ में द्वितीयेश और सप्तमेश शुक्र का होना अत्यंत शुभ है। मंगल यहां अभिनय में विशिष्टता दे रहा है जिसके कारण भौतिक साधनों और एेश्वर्य की प्राप्ति स्वत: बलपूर्वक भी होती है। केतु और बुध का अष्टम भाव में होना ‘विपरीत राज योग’ का निर्माण कर रहा है किन्तु प्रसिद्धि भंग भी हो रही है।  राहू का द्वितीय भाव में वृष राशि  में होना मिट्टी से सोना बनाने वाला और सोने को मिट्टी बनाने वाली कला में सलमान खान को निपुण बनाता है। यही कारण है कि फिल्म की कहानी कुछ भी हो, उसमें दम हो या न हो किन्तु सलमान खान के नाम से प्रसिद्धि और धन कमाती है। राहू जहां यश की प्राप्ति करवा रहा है, वहीं द्वितीय भाव में राहू इनको दांतों के रोग देगा इसलिए इन्हें पेय पदार्थों का सेवन सावधानीपूर्वक करना चाहिए अन्यथा दांतों के रोग परेशान करेंगे। राहू यहां जीवन को संघर्षमय बनाता है, जीवन में सम्पन्नता होने पर भी उतार-चढ़ाव का मुंह देखना पड़ेगा। 


मिथुन राशि का गुरु तृतीय भाव में स्थित है उसकी दृष्टि सप्तम भाव, भाग्य भाव और लाभ भाव पर पूर्ण पड़ रही है। गुरु भाग्य का स्वामी है और भाग्य को ही सप्तम दृष्टि द्वारा शुभता प्रदान कर रहा है एवं भाग्य स्थान में स्वयं पंचमेश सूर्य स्थित है। यह एक उत्तम योग है यहां गुरु सलमान खान को स्वयं तो प्रसिद्धि प्राप्त करवा रहा है साथ में भाइयों के लिए अच्छा एवं पितृपक्ष को धनवान बना रहा है।


सलमान खान की जन्म कुंडली में अष्टम भाव में स्थित बुध विपरीत राजयोग तो प्रदान कर रहा है किन्तु साथ में सामाजिक घटनाआें के बुरे प्रभाव को भी उजागर कर रहा है। ‘छुपा तबाही का फंदा’ का भाव भी प्रकट होता है अर्थात् अधिकतर जिस भी स्त्री से प्रेम होगा वही विश्वासघात भी करेंगी। केतु और बुध का अष्टम भाव में होना विषम परिस्थितियों में फंसा कर बाहर निकालेगा। 


सलमान खान के विवाह पर सबकी नजर है। जन्म कुंडली में सप्तम भाव विवाह का भाव है। इस स्थान पर गुरु की पूर्ण दृष्टि है। सप्तम भाव का स्वामी शुक्र दशम भाव में मंगल के साथ स्थित है जिस कारण स्त्रियां सलमान  को प्रेम दृष्टि से देखेंगी। वर्तमान में सलमान खान की फिल्में सुपरहिट साबित हो रही हैं, उसका मुख्य कारण यही है। शुक्र ही विवाह के बाद भाग्य उदय करवाएगा किन्तु प्रेम विवाह नहीं होगा। अगर प्रेम विवाह करना है तो दोनों परिवारों की सहमति से ही होगा स्वयं कोई कन्या देख कर प्रेम के द्वारा सलमान खान विवाह के बंधन में नहीं बंध सकता। विवाह न होने का मुख्य कारण सलमान खान का खुद का मस्तिष्क है, अलबत्ता यदि विवाह और कन्या का चुनाव पिता अथवा भाइयों पर छोड़ दिया जाए तो विवाह सम्पन्न हो सकता है।  -ज्योतिर्विद बॉक्सर देव गोस्वामी
कैसे पराई महिला को करें वश में (देखें VIDEO)

Related Stories:

RELATED Kundli Tv- शनि होंगे मार्गी, इन राशि वालों को होगा खतरा!