क्या आप जानते हैं कैसे हुई महामृत्युंजय मंत्र की उत्पत्ति ?

ये नहीं देखा तो क्या देखा(video)
महामृत्युंजय मंत्र के बारे में तो लगभग सभी जानते हैं, लेकिन खास करके भोलेनाथ के भक्त, जो इस मंत्र के जाप से होने वाले फायदों बहुत अच्छे से पता होगा। लेकिन क्या उन्हें ये पता है कि आखिर इस शक्तिशाली मंत्र की उत्पत्ति कैसी हुई। हम जानते हैं आप में से बहुत से ऐसे लोग होंगे जिन्हें इस बारे में कुछ पता नहीं होगा। तो चलिए आज हम आपको बताते हैं कि भोलेनाथ के इस महामृत्युंजय मंत्र कैसे उत्पन्न हुआ और इसके उच्चारण से मानव को क्या क्या लाभ प्राप्त होते हैं। 


कुछ पौराणिक कथाओं के अनुसार मृकण्ड नामक एक ऋषि शिव शंकर के अनन्य भक्त थे। वो उनकी बहुत ज्यादा पूजा-अर्चना करते थे। असल में उन्हें कोई संतान नहीं थी। वो जानते थे कि कि देवों के देव महादेव अगर उन पर प्रसन्न हो जाएंगे तो उन्हें संतान की प्राप्ति अवश्य होगी।

यही मन में विचार कर उन्होंने शिव जो खुश करने के लिए घोर तप किया। और जो वो चाहते थे वो हुआ भगवान शंकर उनकी तपस्या से खुश हुए और उन्हें दर्शन दिए। जब उन्होंने मृकण्ड को वरदान मांगने के लिए कहा तो ऋषि ने पुत्र प्राप्ति का वरदान मांगा। भगवान शंकर ने उन्हें विधान के विपरीत जाकर उन्हें पुत्र प्राप्ति का वरदान दे डाला। लेकिन भगवान शंकर ने उसे चेतावनी देते हुए कहा कि इस खुशी के साथ-साथ दुख भी होगा।

मृकण्ड ऋषि ने फिर भी उनके वरदान को स्वीकार किया। भोले शंकर के वरदान से ऋषि को पुत्र प्राप्त हुआ जिनका उन्होंने मार्कण्डेय नाम रखा। ज्योतिषियों ने जब इस बालक की कुंडली देखी तो उन्होंने ऋषि और उनकी पत्नी को बताया कि ये विल्क्षण बालक अल्पायु है, यानि इसकी उम्र केवल 12 वर्ष है। इतना सुनते ही ऋषि की खुशी-दुख में बदल गई लेकिन उन्होंने धैर्य रखते हुए अपनी पत्नी को समझाया कि जिस भोलेनाथ ने हमें इन्हें वरदान के रूप में भेंट किया है वहीं इसकी रक्षा भी करेंगे।

धीरे-धीरे मार्कण्डेय ऋषि बड़े होने लगे, उन्होंने अपने पिता से शिवमंत्र की दीक्षा ग्रहण की। एक दिन उनकी माता ने दुखी होकर अपने पुत्र को बता दिया कि वे अल्पायु है। जब मार्कण्डेय ऋषि को ये पता चला कतो उन्होंने मन ही मन ये प्रण कर लिया कि वे अपने माता-पिता की सुख व खुशी के लिए भोलेनाथ से दीर्घाय का वरदान प्राप्त करेंगे।

इसके बाद उन्होंने एक मंत्र की रचना की और शिव मंदिर में बैठकर इस मंत्र का पाठ करने लगे। बता दें वो मंत्र है- 
“ॐ त्र्यम्बकं यजामहे सुगन्धिं पुष्टिवर्धनम्।
उर्वारुकमिव बन्धनान् मृत्योर्मुक्षीय मामृतात्॥”


जिस हम महामृत्युंजय मंत्र के नाम से जानते हैं।

मान्यता है कि जब यमदूत उन्हें लेने आए तो बालक मार्कण्डेय भगवान शंकर की आराधना में मगन था। तो वो उनके अखंड जाप के संकल्प के पूरे होने की इंतज़ार करने लगे। लेकिन थोड़े देर बाद वे वापिस लौट आए और यमराज को बताया कि वे बालक तक पहुंचने का साहस नहीं कर पाए।

इस पर यमराज को क्रोध आ गया और कहा कि मृकण्ड के पुत्र को मैं स्वयं लेकर आऊंगा और उसे लाने के लिए निकल पड़े। 

जब वह वहां पहुंचे तो बालक मार्कण्डेय जोर-जोर से महामृत्युंजय मंत्र का जाप करते हुए शिवलिंग से लिपट गया।

यमराज ने उसे शिवलिंग से खींचकर ले जाने की कोशिश की तभी जोरदार हुंकार से मंदिर कांपने लगा और शिवलिंग से महाकाल प्रकट हो गए। उन्होंने क्रोधित होकर यमराज से कहा तुमने मेरी साधना में लीन भक्त को परेशान करने का साहस भी कैसे किया ?

जिसके बाद यमराज महाकाल क्रोध के डर से कांपने लगा उन्होंने कहा- प्रभु मैं आप का सेवक हूं और आपने ही जीवों से प्राण हरने का हक मुझ दिया है।

इतना सुनते ही भगवान का क्रोध थोड़ा शांत हो गया और तो बोले- कि हां तुम ठीक कह रहे हो लेकिन मैं अपने इस भक्त की स्तुति से बहुत प्रसन्न हूं और मैं इसे दीर्घायु होने का वरदान देता हूं। इसलिए तुम इसे नहीं ले जा सकते।

इसके बाद यम ने शंकर भगवान को प्रणाम करते हुए कहा प्रभु आपकी आज्ञा सर्वोपरि है। मैं आज क्या कभी भी आपके भक्त मार्कण्डेय द्वारा रचित महामृत्युंजय का पाठ करने वाले को त्रास नहीं दूंगा।

तो इस तह महाकाल की कृपा से मार्केण्डेय दीर्घायु हो गए और उन्होंने एक ऐसे मंत्र की रचनी की जिसका पाठ करने काल तक को भी हराया जा सकता है।
शाम को किया गया ये एक काम घर में पैसों की बाारिश कराता है(video)
 

Related Stories:

RELATED महामृत्युंजय मंत्र में है अद्भुत शक्ति, जाप से मिटते हैं सभी रोग