13,400 बूथों पर कांग्रेस सक्रिय कर रही है संयोजक

नई दिल्ली, 26 जून (ताहिर सिद्दीकी): अगले साल होने वाले लोकसभा चुनाव से पहले सोशल मीडिया में युवाओं के बीच कांग्रेस का दायरा बढ़ाने के मकसद से पहली बार बूथ लेवल पर सोशल मीडिया टीमों के गठन की कवायद तेज हो गई है। दिल्ली कांग्रेस ने 13,400 बूथ पर लगभग डेढ़ लाख सोशल मीडिया योद्धाओं की नियुक्ति की प्रक्रिया को तेज करते हुए अब तक करीब एक हजार संयोजक नियुक्त कर दिए हैं। बूथ लेवल की संयोजक टीमें बनाकर व्हाट्सएप ग्रुप, फेसबुक और ट्विटर के जरिए पार्टी और राहुल गांधी का संदेश पहुंचाने का काम करेंगे। एक वरिष्ठ कांग्रेस नेता ने बताया कि लोकसभा,विधानसभा और ब्लॉक स्तर के बाद पहली बार बूथ लेवल पर सोशल मीडिया टीमें गठित की जा रही हैं। सोशल मीडिया पर किस तरह की सामग्री पोस्ट की जाएगी,इसे प्रदेश स्तर पर तय किया जाएगा। बूथ लेवल महिला सुरक्षा पर...खतरनाक देश बन गया है।’


उल्लेखनीय है कि ग्लोबल एक्सपर्ट्स के एक पोल के अनुसार भारत, महिलाओं के लिए दुनिया का सबसे असुरक्षित देश है। पोल में कहा गया कि यहां यौन हिंसा का सबसे अधिक खतरा होता है और बंधुआ मजदूर भी बनाए जाते हैं। पोल के मुताबिक युद्धग्रस्त अफगानिस्तान और सीरिया को दूसरा और तीसरा स्थान मिला है। इसके बाद सोमालिया और सऊदी अरब का स्थान है। थॉमसन रायटर्स फाउंडेशन द्वारा कराए पोल में महिलाओं से जुड़े करीब 550 विशेषज्ञों ने हिस्सा लिया। सूची में अमरीका भी टॉप 10 में है। पोल में जवाब देने वालों ने यौन हिंसा, शोषण व सेक्स के लिए मजबूर करने के मामले में अमरीका को संयुक्त रूप से तीसरे स्थान पर रखा है।

स्थानीय मुद्दों को उठाने पर भी जोर 
विधानसभा,ब्लॉक और बूथ लेवल के संयोजकों को सोशल मीडिया पर स्थानीय मुद्दों को भी प्रमुखता से उठाने की हिदायत दी गई है। स्थानीय स्तर पर लोगों को किस तरह की परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है, इसे भी सोशल मीडिया पर पोस्ट करने की सलाह दी गई है।  

फर्जी सामग्री पोस्ट नहीं करने की हिदायत 
प्रदेश कांग्रेस ने सोशल मीडिया पर सक्रिय पार्टी की दिल्ली इकाई के कार्यकर्ताओं और समर्थकों को लोगों के बीच विश्वसनीयता खोने से बचने के लिए फर्जी सामग्री पोस्ट करने की गलती नहीं करने की नसीहत दी है। कांग्रेस के कार्यकर्ताओं और समर्थकों समेत सोशल मीडिया योद्धाओं को सोशल मीडिया पर सही तथ्य रखने की सलाह दी गई है। उनसे ट््िवटर,फेसबुक और अन्य सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर फर्जी तस्वीरें,डेटा और संदेश पोस्ट करने की गलती करने से बचने के लिए कहा गया है। इससे लोगों के बीच कांग्रेस की विश्वसनीयता को बरकरार रखने में मदद मिलेगी। 

Related Stories:

RELATED 2014 में जिन पांच मुद्दों पर जीते थे मोदी, उन्हीं नाकामयाबियों को हथियार नहीं बना पा रही कांग्रेस