लोकसभा चुनाव Result 2019: देश में एक बार फिर से मोदी लहर बरकरार

नई दिल्लीः देश भर में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की ‘प्रचंड लहर' पर सवार भारतीय जनता पार्टी राष्ट्रवाद, हिंदू गौरव और ‘नये भारत' के मुद्दों पर लोकसभा चुनाव में ऐतिहासिक जीत दर्ज करके लगातार दूसरी बार केंद्र में सरकार बनाने जा रही है। जवाहरलाल नेहरू और इंदिरा गांधी के बाद मोदी देश के तीसरे और पहले गैर कांग्रेसी प्रधानमंत्री है जो लोकसभा में लगातार दूसरी बार पूर्ण बहुमत के साथ सरकार बनाएंगे ।

 

542/542

पार्टी रूझान जीत
भाजपा - 349
कांग्रेस - 88
अन्य - 105

 


इसके साथ ही उन्होंने दूसरी बार इस धारणा को धराशाही कर दिया कि केन्द्र की सत्ता में अब गठबंधन का दौर शायद ही खत्म हो। चुनाव आयोग द्वारा जारी मतगणना के आंकड़ों के अनुसार कांग्रेस के 85 सीटों तक ही सिमट गई है। भाजपा की लहर इतनी प्रचंड थी कि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी अपने परिवार के गढ अमेठी में स्मृति ईरानी से हार गए हालांकि वह केरल में वायनाड से जीत गए। इस चुनाव ने 68 बरस के नरेंद्र दामोदरदास मोदी को पिछले कई दशकों में सबसे लोकप्रिय नेता बना दिया। चुनाव आयोग द्वारा जारी मतगणना के आंशिक आंकड़ों के अनुसार भाजपा इस बार 2014 से बेहतर प्रदर्शन करके 300 का आंकड़ा पार कर लिया है।

मोदी ने देशवासियों को धन्यवाद देते हुए कहा ,‘‘ आपने फकीर की झोली उम्मीदों से भर दी है। हमने नये भारत के निर्माण के लिये जनादेश मांगा था और लोगों ने हमें इसके लिये आशीर्वाद दिया है ।'' उन्होंने भाजपा मुख्यालय में पार्टी अध्यक्ष अमित शाह के साथ खचाखच भरे कार्यकर्ताओं और समर्थकों को संबोधित करते हुए कहा ,‘‘ भारत में पहली बार मतदान का प्रतिशत इतना रहा है और अब दुनिया को भारतीय लोकतंत्र की ताकत को पहचानना होगा ।'' उन्होंने यह भी कहा कि ‘मेरे जीवन का हर पल' और ‘मेरे शरीर का हर कण' देश की भलाई के लिये समर्पित है । उन्होंने विरोधी दलों से भी चुनाव अभियान की कटुता को भुलाने का आग्रह किया । उन्होंने कहा ,‘‘ हमें आगे बढना होगा । हमें सभी को साथ लेकर चलना होगा, विरोधियों को भी । हमें देश के हित में काम करना है ।''

अभी तक भाजपा ने 542 में से 349 सीटें जीत ली हैं । सात चरण में हुए मतदान में जनता ने विपक्षी गठबंधन को नकार दिया है और कांग्रेस पार्टी ने 86 सीटें जीती है जबकि अन्य 106 पर है । कांग्रेस का खाता 16 राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों में खुलता नहीं दिख रहा जिनमें दिल्ली, गुजरात, आंध्रप्रदेश, राजस्थान, हरियाणा, हिमाचल प्रदेश, उत्तराखंड, अरूणाचल प्रदेश, ओडिशा,त्रिपुरा, मणिपुर, मिजोरम, दमन दीव, दादर नगर हवेली और चंडीगढ शामिल हैं। मोदी वाराणसी में 4 लाख 79 हजार 505 वोट से जीत गए जबकि पार्टी अध्यक्ष अमित शाह गुजरात में गांधीनगर लोकसभा सीट पर साढे पांच लाख वोट से विजयी रहे हैं । मोदी ने ट्वीट किया ,‘‘ सबका साथ , सबका विकास और सबका आत्मविश्वास यानी विजयी भारत ।'' उन्होंने कहा ,‘‘ हम एक साथ विकास करेंगे और साथ मिलकर सशक्त और समावेशी भारत बनायेंगे । एक बार फिर भारत की जीत हुई ।'' मतदान के आखिरी चरण में ‘अबकी बार 300 पार' का भाजपा का नारा सही साबित हो गया है ।


मोदी और पार्टी कार्यकर्ताओं को बधाई देते हुए वित्त मंत्री अरूण जेटली ने कहा ,‘‘ महत्वाकांक्षी भारत रजवाड़ों, वंशवाद और जातिगत राजनीति को स्वीकार नहीं करता ।'' उत्तर प्रदेश जैसे राजनीतिक रूप से महत्वपूर्ण राज्य में समाजवादी पार्टी और बहुजन समाज पार्टी के गठबंधन से मिली चुनौती के बीच भाजपा 80 में से 61 सीटों पर जीत हासिल की है । जबकि सपा  और बसपा 18  और कांग्रेस को 1 सीट मिली है। भाजपा ने पिछली बार उत्तर प्रदेश में 71 सीटें जीती थी लेकिन इस बार भी उसका प्रदर्शन तमाम एक्जिट पोल के अनुमानों से बेहतर है।

मोदी लहर सिर्फ हिन्दीभाषी प्रदेशों और गुजरात में ही नहीं बल्कि पश्चिम बंगाल, ओडिशा, महाराष्ट्र और कर्नाटक में भी रही । केरल, तमिलनाडु और आंध्र प्रदेश को यह छू नहीं सकी । तेलंगाना में भाजपा चार सीटें जीती है। आंध्र प्रदेश में विधानसभा चुनाव में चंद्रबाबू नायडू की तेलुगू देशम पार्टी हार गई है जबकि वायएसआर कांग्रेस के जगन मोहन रेड्डी ने जीत हासिल की है ।

मध्यप्रदेश में भाजपा ने 28 कांग्रेस 1 सीट पर जीत हासिल की है। जबकि राजस्थान में 25 जीती है। छत्तीसगढ में भाजपा 9 और कांग्रेस 2 सीटों पर जीत हासिल की है । कांग्रेस नेता मल्लिकार्जुन खडगे कर्नाटक के कलबुर्गी से हार गए जबकि ज्योतिरादित्य सिंधिया गुना से पराजित हुए। हरियाणा में दस सीटें भाजपा के पक्ष में है। ओडिशा में भाजपा 8 सीटें जीती है। पश्चिम बंगाल में 42 में से 18 बीजेपी, ममता बनर्जी की तृणमूल कांग्रेस 22 व कांग्रेस 2 सीटों पर जीत हासिल की है।पिछले लोकसभा चुनाव में भाजपा ने यहां दो सीटें ही जीती थी जबकि कभी वामपंथ का गढ रहे राज्य से वाम दलों का सफाया हो गया था। केरल में कांग्रेस नीत यूडीएफ 20 में से 18 सीट मिली है । उल्लेखनीय है कि इस चुनाव में पंजीकृत 90.99 करोड़ मतदाताओं में से करीब 67.11 प्रतिशत लोगों ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया है। भारतीय संसदीय चुनाव में यह अब तक का सर्वाधिक मतदान प्रतिशत है।

 

Related Stories:

RELATED जब लोकसभा में दिखे कुछ रोचक नजारे