जल्द रेलवों स्टेशनों पर मिलेगी ''कुल्हड़'' वाली चाय, 15 साल पहले लालू ने की थी शुरू

नेशनल डेस्कः भारत के रेलवे स्टेशनों पर एक बार फिर जल्द आप कुल्हड़ में फिर चाय का आनंद ले सकते हैं। आज से 15 साल पहले पूर्व रेल मंत्री लालू प्रसाद यादव ने रेलवे स्टेशनों पर ‘कुल्हड़’ में चाय बेचने का ऐलान किया था। लालू का तर्क था कि इससे स्टेशनों पर गंदगी नहीं फैलेगी और कुल्हड़ बनाने वालों को बड़े पैमाने पर रोजगार मिलेगा।


लेकिन कुल्हड़ की जगह धीरे-धीरे प्लास्टिक और पेपर के कपों ने ले ली। अब रेल मंत्री पीयूष गोयल कुल्हड़ की वापसी को लेकर गंभीर दिख रहे हैं। फिलहाल वाराणसी और रायबरेली स्टेशनों पर खान-पान का प्रबंध करने वालों को टेराकोटा या मिट्टी से बने ‘कुल्हड़ों’, ग्लास और प्लेट के इस्तेमाल का निर्देश दिया है।

उत्तर रेलवे एवं उत्तर पूर्व रेलवे के मुख्य वाणिज्यिक प्रबंधक बोर्ड की ओर से जारी परिपत्र में इसका जिक्र किया गया है और वेंडरों को जल्द से जल्द कुल्हड़ अपनाने का आदेश दिया गया है। अधिकारियों ने बताया कि इस कदम से यात्रियों न सिर्फ ताजगी का अनुभव होगा बल्कि अपने अस्तित्व को बचाने के लिए संघर्ष कर रहे स्थानीय कुम्हारों को इससे बड़ा बाजार मिलेगा।

रेलवे के सर्कुलर के मुताबिक, ‘जोनल रेलवे और आईआरसीटीसी को सलाह दी गई है कि वे तत्काल प्रभाव से वाराणसी और रायबरेली रेलवे स्टेशनों की सभी इकाइयों में यात्रियों को भोजन या पेय पदार्थ परोसने के लिए स्थानीय तौर पर निर्मित उत्पादों, पर्यावरण के अनुकूल टेराकोटा या पक्की मिट्टी के ‘कुल्हड़ों’, ग्लास और प्लेटों का इस्तेमाल सुनिश्चित करें ताकि स्थानीय कुम्हार आसानी से अपने उत्पाद बेच सकें।

Related Stories:

RELATED चाय के साथ ले कटलेट का मजा