Kundli Tv- सावन की शिवरात्रि : भोलेबाबा किस पर बरसाएंगे कृपा

गुरुवार दिनांक॰ 09.08.18 को सावन महीने के कृष्ण पक्ष की प्रदोष व्यापिनी चतुर्दशी के उपलक्ष्य में सावन शिवरात्रि का पर्व मनाया जाएगा। चतुर्दशी अर्थात चौदस तिथि के स्वामी स्वयं परमेश्वर शिव माने जाते हैं। शिवरात्रि शिव-शक्ति के मिलन का विशेष पर्व है। साल में 12 मासिक शिवरात्रि पर्व मनाई जाती है। सावन मास के कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी को मनाया जाने वाला शिवरात्रि पर्व महादेव को अति प्रिय है। पौराणिक मतनुसार शिवरात्रि पर्व वैदिक काल से ही मनाया जाता है। इस व्रत व पर्व का पालन देवी लक्ष्मी, सरस्वती, गायत्री, सीता, पार्वती व रति ने विधि वत किया था। मान्यतानुसार शिवरात्रि शिव-शक्ति के मिलन का पर्व है। शिवरात्रि के प्रदोषकाल में शंकर-पार्वती का विवाह हुआ था। 


प्रदोषकाल में महाशिवरात्रि तिथि में ज्योतिर्लिंगों का प्रादुर्भाव हुआ था और सर्वप्रथम ब्रह्मा व विष्णु ने महा-शिवरात्रि पर शिवलिंग पूजन किया था। पौराणिक मान्यतानुसार दिव्य ज्योर्तिलिंग का उद्भव चतुर्दशी तिथि को माना जाता है व महाशिवरात्रि को शिव उत्पत्ति के रूप में मानते हैं। मध्य रात्रि के दौरान किए जाने वाले शिवरात्रि पूजन को निशिता कहते हैं। संध्या के समय किए जाने वाले शिवरात्रि पूजन को प्रदोष कहते हैं। पौराणिक मतानुसार सावन में की जाने वाली कांवड़ यात्रा समुद्र के मंथन से संबंधित है। समुद्र मंथन के दौरान महादेव ने विष पान किया था, जिससे वो नील कंठ कहलाए। परंतु महादेव विष के प्रभाव से ग्रस्त हो गए। त्रेता युग में रावण ने गंगा से कांवड़ लाकर पवित्र गंगाजल महादेव पर अर्पित किया, इस प्रकार विष की नकारात्मक ऊर्जा महादेव पर से दूर हुई। सावन शिवरात्रि व्रत में शिवलिंग के साथ सम्पूर्ण शिव परिवार का पूजन किया जाता है। सावन शिवरात्री के पूजन, व्रत व उपायों से सभी मनोकामनाएं पूरी होती हैं, हर मुश्किल कार्य सुगम होता है व सदा निरोगी काया प्राप्त होती है।


स्पेशल पूजन विधि: शिवालय जाकर शिवलिंग का विधिवत पूजन करें। सबसे पहले जल से अभिषेक करें उसके बाद दूध, घी, शहद व पंचामृत से तत्पश्चात घी में केसर मिलाकर दीपक करें, चंदन से धूप करें, पीले चंदन से तिलक करें, पीले फूल चढ़ाएं व केसर की खीर का भोग लगाएं और केले का फलहार चढ़ाएं। रुद्राक्ष की माला से 108 बार यह विशेष मंत्र जपें। पूजन के बाद भोग प्रसाद स्वरूप सभी में वितरित करें। 


स्पेशल मंत्र: ॐ नीलकंठाय नमः॥
स्पेशल मुहूर्त:शाम 17:35 से शाम 18:35 तक।


शुभ मुहूर्त:
अगर आज आप किसी को प्रपोज़ कर रहे हैं या किसी खास से अपना दिले हाल बयां करना चाहते हैं, तो इसके लिए बेस्ट टाइम है- 10:46 - 12:27


अगर आज आप कोई टू व्हीलर या फोर व्हीलर गाड़ी खरीदना चाहते हैं, तो वाहन खरीदने के लिए बेस्ट टाइम रहेगा- 12:27 - 14:09


आज आप कोई नया कंस्ट्रक्शन करवा रहें है या कोई नींव रखना चाहते हों तो इसके लिए सबसे बेस्ट टाइम है- 09:05 - 10:46


अगर आज आप बेबी की डिलीवरी के लिए सीजेरियन कराने की सोच रहे हैं तो इसके लिए अच्छा समय रहेगा- 12:27 - 14:09


अगर आज आप कोई प्रॉपर्टी खरीदने-बेचने की सोच रहें है तो बयाना लेने और देने के लिए शुभ मुहूर्त रहेगा- 10:46 - 12:27


अगर आज आप शेयर बाजार या कमोडिटी मार्केट में इन्वेस्टमेंट कर रहे हैं तो इसके लिए लकी टाइम रहेगा- 12:27 - 14:09


अगर आज कोर्ट-कचहरी में किसी मामले में दरख्वास्त देने के सोच रहे हैं तो इसके लिए शुभ मुहूर्त रहेगा- 10:46 - 12:27


अगर आज आप सोने या चांदी की ज्वेलरी खरीदने की सोच रहे हैं तो इसके लिए बेस्ट टाइम रहेगा- 19:12 - 20:31


आज अगर कोई नया बिज़नेस शुरु करने की सोच रहें है तो इसके लिए अच्छा टाइम रहेगा- 12:27 - 14:09


अगर आज आप फाइनेंशियल लेन-देन करना चाहते हैं तो इसके लिए बेस्ट टाइम रहेगा-19:12 - 20:31


उपाय चमत्कार: 
गुड हेल्थ के लिए:शिवलिंग पर चढ़ा शहद खाएं।  

गुडलक के लिए: शिवलिंग पर चढ़े चना पीला कपड़े में बांधकर रखें।

विवाद टालने के लिए: शिवलिंग पर पपीता चढ़ाकर गरीब बच्चों को भेंट करें।  

नुकसान से बचने के लिए: शिवलिंग पर पीपल के पत्तों की माला चढ़ाएं।

प्रॉफेश्नल सक्सेस के लिए: शिवलिंग पर चड़ी मौली कलाई पर बंधवाएं।

एजुकेशन में सक्सेस के लिए: शिवलिंग पर चढ़ा गोल्डन रंग का पेन इस्तेमाल करें।

बिज़नेस में सफलता के लिए:नमः शिवाय बोलते हुए वर्कप्लेस की तिज़ोरी पर हल्दी से तिलक करें।

पारिवारिक खुशहाली के लिए: पूजा घर में बैठकर शिव चालीसा का पाठ करें। 
 
लव लाइफ मे सक्सेस के लिए:शिवलिंग पर चढ़ा पीला फूल लवर को भेंट करें। 

मैरिड लाइफ में सक्सेस के लिए:शिवालय में शंकर-पार्वती का गठबंधन करवाएं।

आचार्य कमल नंदलाल
ईमेल: kamal.nandlal@gmail.com

Related Stories:

RELATED Kundli Tv- गाय, गोविंद और गोपाष्टमी का क्या है इन तीनों का CONNECTION