कुंभ स्पेशलः क्या है शाही स्नान ?

ये नहीं देखा तो क्या देखा(video)
आज से कुंभ का मेला शुरु हो चुका है। तो जाहिर सी बात है कि आज कुंभ का पहला शाही स्नान है। हिंदू पंचांग के अनुसार सूर्य जब मकर राशि में प्रवेश करता है तब मकर संक्रांति का पर्व मनाया जाता है। तो पंचांग के मुताबिक कल शाम 7 बजकर 50 मिनट पर यानि 14 जनवरी को सूर्य ने राशि परिर्वतन किया। जिसके अनुसार 15 जनवरी को मकर संक्रांति मनाई जा रही है और इसलिए कुंभ का पहला शाही स्नान आज से शुरु है। 


देश का सबसे बड़ा धार्मिक और आध्यात्मिक कुंभ मेला इस बार प्रयागराज में मंगलवार को मकर संक्रांति के साथ शुरू हो चुका है। ये मेला 15 जनवरी से 4 मार्च तक कुल 49 दिन तक चलेगा। ये बात बहुत कम लोग जानते होंगे कि हिंदू धर्म का ये सबसे बड़ा त्योहार कहा जाने वाला कुंभ 12 वर्ष के अंतराल पर चारों में से किसी एक पवित्र नदी के तट पर मनाया जाता है। बता दें कि वो नदियां हैं हरिद्वार में गंगा, उज्जैन में शिप्रा, नासिक में गोदावरी और इलाहाबाद में संगम जहां गंगा, यमुना और सरस्वती मिलती हैं। तो चलिए आज हम आपको कुंभ के शाही स्नान के बारे में-

भारत में 4 जगहों पर कुंभ होता है। हर स्थान पर 12वें साल कुंभ होता है। प्रयाग में दो कुंभ पर्वों के बीच 6 साल के अंतराल में अर्धकुंभ भी होता है। प्रयागराज में पिछला कुंभ 2013 में हुआ था। 2019 में यह अर्द्धकुंभ है। प्रयागराज में अगला कुंभ 2025 में होगा।

शाही स्नान कब होगा
प्रयागराज में कुंभ मेला मकर संक्रांति यानि आज के दिन शुरू होता है, जब सूर्य और चंद्रमा वृश्चिक राशि में और बृहस्पति मेष राशि में प्रवेश करते हैं। इस बार शाही स्नान 15, 21 जनवरी, और 4,10,19 फरवरी व 4 मार्च को पड़ रहे है।  
कब है मकर संक्रांति 14 या 15, जानिए क्यों खाई जाती है इस दिन खिचड़ी ?(video)
 

Related Stories:

RELATED कुंभ का चौथा शाही स्नान आज, यहां जानें अखाड़ों के स्नान का समय