ऐसे जानें अपना सही मूलांक और भाग्यांक

ये नहीं देखा तो क्या देखा (VIDEO)
जन्म तारीख को जोड़ लें वह मूलांक और जन्म तारीख, महीना और सन के अंक को जोड़ लें और जो दो अंकों का नंबर आ रहा है उसे भी जोड़ लें। अंत में जो अंक आता है वही आपका (भाग्यशाली अंक) भाग्यांक कहलाता है। जैसे 7, 16, 25 जन्म तारीख वाले का मूलांक 7 होगा और 23-11-2007 जन्म तारीख वाले का भाग्यांक 7 होगा। इसमें जन्म तारीख माह और सन् का जोड़ करने से 16 अंक आया। इसका योग 1+6 = 7, यानी मूलांक 7। मूलांक और भाग्यांक के अनुसार काम करने से जीवन में रुके हुए काम पूरे होते चले जाते हैं। 

अंग्रेजी के प्रत्येक अक्षर को तथा हिंदी के अक्षरों को भी अंक शास्त्र में नंबर दिए गए हैं। अ से अं, अ: तक 1 से 24 अंक सीरियल में तथा क, ख से ह तक 1 से 36 अंक सीरियल में दिए गए हैं।

अधिकतर जीवन के मूलांक और भाग्यांक वाले माह, तारीख तथा सन लाभकारी रहते हैं। इसके अतिरिक्त यदि जन्म/राशि लग्न के योगकारी ग्रह का अंक मूलांक या भाग्यांक से मिलता है और उस अंक के अनुसार नामांक बना लें तो बहुत उन्नति होगी। जन्म तारीख के अनुसार शुभ अंक :

अंक  1- वालों के लिए 1,10,19, 20,16, 25, 28, 2, 7,11 या 20 में से कोई हो सकता है।

अंक  2- वालों के लिए 2, 11, 20, 29, 4, 13, 22, 31, 7, 16 या 25 लक्की नंबर हो सकता है।

अंक  3- वालों के लिए  3, 6, 9, 3, 12, 29 या 30 लकी नंबर शुभ रहेगा

अंक  4- वालों के लिए  1, 2, 7, 8,  4, 13, 22 और 31 नंबर शुभ रहेगा

अंक  5- वालों के लिए 5, 14, 23, 6, 2, 32, 41, 50, 68, 77 में से कोई एक अंक लक्की नंबर रहेगा।

अंक  6-वालों के लिए 6, 15, 3, 9, 12, 18, 21, 27, 30 या 24 हो सकता है।

अंक  7-वालों के लिए 1, 2, 4 या 7 लक्की नंबर होते हैं।

अंक  8- अगर आपका अंक आठ है तो आपका लक्की नंबर 8, 4, 17, 13, 22, 26 या 31 रहेगा।

अंक  9- वालों के लिए लक्की नंबर 3, 6, 9, 12, 15, 18, 27, 21, 24 या 30 होता है।

भाग्यांक के प्रति शेक्सपियर ने अपना मत इस प्रकार व्यक्त किया है, ‘‘कुछ लोग जन्मजात महान होते हैं, कुछ अपने कर्मों के बल पर महानता हासिल करते हैं और कुछ पर महानता थोप दी जाती है।’’

भाग्यांक का मूल आधार जन्म तिथि है। पाश्चात्य विद्वानों के अनुसार जीवन में मूलांक उतना प्रभावशाली नहीं होता, जितना भाग्यांक। कुछ विद्वान भाग्यांक को संयुक्तांक के नाम से भी पुकारते हैं। 

आपकी कंपनी/ व्यापार के लिए 
व्यापार संस्थान का नाम यदि हम इस शास्त्र के अनुसार रखें तो व्यापार में अच्छी उन्नति की संभावना बनती है। कई व्यापार संस्थाओं के नाम बदलने से उन्हें लाभ हुआ है। यदि आप चाहें तो उपयुक्त मुहूर्त का चुनाव करके, अंक ज्योतिष और जन्म कुंडली का विश्लेषण करके  ऐसा नाम रखा जा सकता है जो न केवल आपको हानि से बचाएगा बल्कि तरक्की की राह को और सुगम बना देगा।
—अर्चना कपूर
ज्योतिष- ये एक पत्ता करेगा हर काम पक्का (VIDEO)

 

Related Stories:

RELATED होली के दिन कर लें ये उपाय, बदल जाएगी किस्मत