केजी से पीजी तक की पढ़ाई होगी निशुल्क

बरेलीः उत्तर प्रदेश के उप मुख्यमंत्री एवं उच्च शिक्षा मंत्री दिनेश शर्मा ने कहा कि अभिभावकों का बच्चों की पढाई का खर्च कम करने के लिए राज्य सरकार केजी से पीजी तक की शिक्षा नि:शुल्क करना चाहती है और इस दिशा में तेजी से काम किया जा रहा है।  

महात्मा ज्योतिबा फुले रुहेलखंड यूनिवर्सिटी के दीक्षांत समारोह में छात्रों को संबोधित करते हुए श्री शर्मा ने कहा कि केजी से पीजी तक की शिक्षा सरकार नि:शुल्क करना चाहती है। इससे अभिभावकों का बच्चों की पढ़ाई का बोझ खत्म हो जाएगा। 

सरकार इस दिशा में तेजी से काम कर रही है। समारोह में राज्यपाल एवं कुलाधिपति राम नाईक ने 87 टॉपर्स को गोल्ड मैडल देकर सम्मानित किया। उनमें 64 छात्राओं व 23 छात्र शामिल थे।  इस अवसर पर श्री नाईक ने कहा कि यूनिवर्सिटी महात्मा ज्योतिबा फूले के सिद्धांतों पर काम कर रही है। महात्मा ज्योतिबा फूले छात्राओं की शिक्षा पर विशेष जोर देना चाहते थे। आज गोल्ड मेडल पाने वाले 87 मेधावियों में 64 छात्राएं हैं। छात्रों के मुकाबले तीन गुना छात्राओं को गोल्ड मैडल मिला है। 

 

इसके अलावा पूरे प्रदेश में छात्राओं का यह प्रतिशत 59 है। ऐसे में छात्रों को पढ़ाई पर ध्यान देने की जरुरत है। उन्होंने कहा कि इस ओर ध्यान नहीं दिया तो वह दिन दूर नहीं, जब छात्रों को आरक्षण की जरुरत पड़ेगी। समारोह में 365 छात्र-छात्राओं को उपाधि वितरित की गईं। इनमें से 58 पीएचडी उपाधि धारक तथा बाकी छात्र-छात्राएं स्नातकोत्तर उपाधिधारक शामिल थे।  भाजपा जिला अध्यक्ष रविंद्र राठौर ने बताया कि त्रिशूल एयरबेस पर राज्यपाल और उपमुख्यमंत्री की अगवानी के दौरान पार्टी के सांसद और विधायकों ने समारोह का निमंत्रण नहीं देने पर नाराजगी व्यक्त की और समारोह में शामिल नहीं हुए।  

यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!