डूसू के लिए पहली बार वोट करेंगे केशव महाविद्यालय के छात्र

नई दिल्ली : दिल्ली विश्वविद्यालय छात्र संघ (डूसू) चुनावों में वोटिंग करने व कॉलेज में स्टूडेंट यूनियन बनाए जाने को लेकर काफी लंबे समय से केशव महाविद्यालय के छात्र मांग कर रहे थे। छात्रों का कहना था कि जब उनका कॉलेज डीयू से जुड़ा हुआ है तो उन्हें भी अपनी मांग रखने व आवाज सुनाने के लिए कॉलेज में लोकतांत्रिक प्रक्रिया में भाग लेने का पूर्ण अधिकार है। उनकी यह मांग कॉलेज प्रशासन व दिल्ली विश्वविद्यालय प्रशासन ने हाल ही में मान ली है और इस बार पहली बार केशव महाविद्यालय के छात्र डूसू वोटिंग में हिस्सा लेंगे। बता दें कि केशव महाविद्यालय दिल्ली सरकार द्वारा पूर्ण पोषित महाविद्यालय है। 

डीयू से संबंधित केशव महाविद्यालय प्रीतमपुरा में स्थित है। इसकी स्थापना साल 1994 में की गई थी। इस महाविद्यालय की स्थापना के कुछ वर्षों के बाद से ही छात्रों द्वारा लगातार इसे डूसू चुनावों से जोड़े जाने की मांग की जाती रही है। लेकिन दो दशक से भी अधिक समय बीत जाने के बाद भी कॉलेज के छात्रों को डूसू चुनावों में भाग लेने की अनुमति नहीं मिली। इस साल कॉलेज चेयरमैन समर कुमार के समक्ष भी छात्रों ने इस मांग को जब दोहराया तो उन्होंने कॉलेज में अप्रैल महीने में जनमत संग्रह करवाया। बकायदा बैलेट बॉक्स से चुनाव करवाया गया, इस जनमत संग्रह में 92 फीसदी छात्रों ने वोट डाला कि वो डूसू चुनावों में भाग लेना चाहते हैं। जिसके बाद केशव महाविद्यालय में पढऩे वाले 1600 छात्रों को पहली बार डूसू चुनावों व कॉलेज यूनियन में अपने मत का प्रयोग करने का अवसर मिलेगा। छात्रसंघ चुनावों को लेकर केशव महाविद्यालय के छात्रों में खासा जोश देखने को भी मिल रहा है। 
 

यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!