नवाज के करीबी का दावा- मुशर्रफ थे कारगिल युद्ध के मास्टर माइंड

इस्लामाबाद/लंदन : पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ के एक करीबी परवेज राशिद ने दावा किया है कि कारगिल युद्ध के लिए के मास्टर माइंड पूर्व तानाशाह जनरल परवेज मुशर्रफ थे और उनकी वजह से कश्मीर मुद्दे का समाधान नहीं हो सका। परवेज राशिद ने कहा कि मुशर्रफ ने सरकार की अनुमति के बिना कारगिल अभियान की शुरूआत कर दी जिससे भारत के साथ कश्मीर मुद्दे को लेकर चल रही वार्ता ‘टूट’ गई और नवाज शरीफ सरकार गिर गई।।


उन्होंने कहा कि शरीफ और भारतीय नेतृत्व कश्मीर मुद्दे पर चर्चा कर रहे थे और भारतीय नेतृत्व इसके समाधान के लिए तैयार था लेकिन मुशर्रफ की वजह से सब खटाई में पड़ गया। वहीं पाकिस्तान के विदेश मंत्री द्वारा कश्मीर के 2 अलगाववादी नेताओं से फोन पर बात कर भारत को नाराज करने के बाद, देश की फौज के अध्यक्ष ने सोमवार को कोर कमांडरों की कांफ्रैंस की अध्यक्षता की और कश्मीर मुद्दे तथा नियंत्रण रेखा के हालात पर चर्चा की। पाकिस्तानी फौज के प्रवक्ता मेजर जनरल आसिफ गफूर ने एक बयान में कहा कि आंतरिक सुरक्षा स्थिति और नियंत्रण रेखा पर तैयारियों की समीक्षा के लिए रावलपिंडी में एक बैठक के दौरान बाजवा ने कश्मीर दिवस की पूर्व संध्या पर कश्मीरी भाइयों के साथ एकजुटता व्यक्त की।

ऊधर ब्रिटिश संसद में सोमवार को कश्मीर पर आयोजित एक वैश्विक सम्मेलन में भारतीय पत्रकारों को नहीं जाने दिया गया। ऑल पार्टी पाॢलयामैंट्री ग्रुप ऑन पाकिस्तान की तरफ से इस सम्मेलन का आयोजन कश्मीरियों के प्रति एकजुटता दिखाने के लिए किया गया था। गुलाम कश्मीर में जन्मे कंजर्वेटिव पार्टी के सांसद रहमान चिश्ती ने इसकी अध्यक्षता की थी। इसमें पाकिस्तानी मूल के ब्रिटिश सांसद और उनके सहयोगी शामिल हुए थे।

Related Stories:

RELATED नवाज शरीफ ने हाईकोर्ट में फिरदायर की जमानत याचिका