Kundli Tv- बृहस्पति-शुक्र की युति, Luxury गाडिय़ों के साथ पूरा करेगी बड़े घर का सपना

ये नहीं देखा तो क्या देखा (देखें VIDEO)

PunjabKesari

जालंधर (धवन): ज्योतिष में बृहस्पति तथा शुक्र की युति काफी शुभकारी मानी जाती है तथा वर्ष में दोनों ग्रहों की युति एक बार होती है। बृहस्पति को आध्यात्मिक गुरु ग्रह का दर्जा प्राप्त है, जबकि शुक्र को भौतिकवादी गुरु कहा जाता है। ज्योतिषी संजय चौधरी के अनुसार दोनों ग्रहों की युति से व्यक्ति के जीवन में सकारात्मक प्रभाव देखने को मिलते हैं। यह युति उस समय और भी महत्वपूर्ण हो जाती है, जब तुला राशि में होती है। 2017 में गुरु तुला राशि में प्रविष्ट हुए थे तथा जब शुक्र की युति गुरु ग्रह से हुई थी तो उस समय इस राशि में नीच के सूर्य भी विराजमान थे, जिस कारण इसने युति के अच्छे प्रभावों को कम कर दिया था। 

PunjabKesari
उन्होंने कहा कि इस युति को शंख योग का नाम दिया जाता है, जिसका अर्थ है कि जीवन में एक नई शुरूआत होती है। इस वर्ष शुक्र 1 सितम्बर को तुला राशि में प्रवेश करेंगे तथा 1 जनवरी 2019 तक इस राशि में रहेंगे। बृहस्पति ग्रह भी तुला राशि में 11 अक्तूबर तक बने रहेंगे, इसलिए बृहस्पति तथा शुक्र की युति तुला राशि में 1 सितम्बर से 11 अक्तूबर तक रहेगी। इससे भारत के आर्थिक वातावरण में सकारात्मक परिवर्तन देखने को मिल सकते हैं। दोनों ग्रहों की युति से लग्जरी गाडिय़ों की बिक्री में बढ़ौतरी होगी तथा साथ ही बड़े घरों की बिक्री भी बढ़ सकती है। 

PunjabKesari
भारतीय अर्थव्यवस्था में सकारात्मक परिवर्तन देखने को मिलेंगे। दूसरी ओर केन्द्र में सत्ताधारी भाजपा को नीच चंद्रमा की महादशा चल रही है तथा चंद्रमा छठे घर में विराजमान है। यह युति 12वें घर में होगी, जिस कारण भाजपा को औसत परिणाम मिलेंगे। दूसरी तरफ मुख्य विपक्षी दल कांग्रेस को शुभ बृहस्पति की महादशा चल रही है, जोकि चौथे घर में विराजमान है। बृहस्पति तथा शुक्र की युति 8वें घर में होगी, जिस कारण कांग्रेस के साथ आगामी लोकसभा चुनाव को लेकर नए सहयोगी जुडऩे के संकेत स्पष्ट दिखाई दे रहे हैं। 

PunjabKesari

जानें, क्यों निकाली जाती है कांवड़ यात्रा

PunjabKesari

× RELATED मिशन 2019: अब सोशल मीडिया पर होगी सियासी जंग, पार्टियों ने तैयार किए अपने-अपने ‘वॉर रूम’