नकोदर रोड पर शिफ्ट होगा आधुनिक ज्यूडीशियल कॉम्पलैक्स

जालंधर(राजेश): शहर के शोर-शराबे के बीच चल रहा ज्यूडीशियल कॉम्पलैक्स जल्द ही शहर से बाहर शिफ्ट होने जा रहा है, जिसके लिए नकोदर रोड पर जगह देख ली गई है। करीब 50 एकड़ में बनने जा रहे कॉम्पलैक्स हेतु जिला प्रशासन स्तर पर जमीन फाइनल करने के लिए निर्देश दिए गए हैं। उल्लेखनीय है कि ज्यूडीशियल कॉम्पलैक्स शहर के बीचों-बीच है।

पहले तो अंग्रेजों के जमाने से एक ही जगह पर अदालतें और वकीलों के चैम्बर थे लेकिन समय के साथ-साथ ज्यूडीशियल कॉम्पलैक्स छोटा पड़ गया। करीब 15 साल पहले नया ज्यूडीशियल कॉम्पलैक्स बनाया गया, जहां पर सभी अदालतें शिफ्ट कर दी गईं। 3 मंजिला इमारत में सभी अदालतें बनीं और वकीलों के चैम्बर पुरानी जगह पर बना दिए गए लेकिन अब फिर ज्यूडीशियल कॉम्पलैक्स छोटा पड़ गया है। यहां भीड़ और शोर-शराबा होने के कारण अदालतों का कामकाज प्रभावित होता नजर आ रहा है। इस समस्या से निपटने के लिए इसे किसी और जगह शिफ्ट करने पर प्लाङ्क्षनग शुरू हुई। पता चला है कि ज्यूडीशियल कॉम्पलैक्स के लिए पंजाब एवं हरियाणा हाईकोर्ट से अनुमति ले ली गई है।
 

3 जगह देखी गई है जमीन
 डी.सी. जालंधर वरिन्द्र शर्मा ने बताया कि जालंधर-नकोदर रोड पर गांव भगवानपुर में 54 एकड़, गांव बादशाहपुर व ताजपुर में 58-58 एकड़ जमीन देखी गई है। तीनों गांवों में स्थित जमीन में से एक जगह जिला स्तरीय कमेटी फाइनल करेगी। कमेटी में जिले के प्रशासनिक अधिकारी, न्यायिक अधिकारी तथा संबंधित विभाग के अधिकारियों को रखा गया है। कमेटी को निर्देश दिए गए हैं कि जगह वहां फाइनल की जाए जहां तक पहुंचना आम जनता के लिए आसान हो।

जाते-जाते भी गुजर जाएंगे कई साल
बेशक ज्यूडीशियल कॉम्पलैक्स शिफ्ट करने का फैसला हो चुका है, प्रोसैसिंग भी शुरू हो चुकी है व कार्रवाई भी तेजी से चल रही है लेकिन इतना बड़ा कॉम्पलैक्स रातों-रात तैयार नहीं हो सकता। बिल्डिंग विभाग के सूत्रों के मुताबिक लैंड एक्वायर करने के साथ-साथ बहुमंजिला इमारत बनाने में कई साल लग जाएंगे। अगर काम दिन-रात चले और फंडों का अभाव न हो तब भी इमारत तैयार कर कामकाज शुरू होने में 2 साल का समय लग सकता है।

भू-माफिया भी हुआ सक्रिय
सूत्रों के अनुसार ज्यूडीशियल कॉम्पलैक्स गांव बादशाहपुर, ताजपुर व भगवानपुर में शिफ्ट होने के फैसले के साथ ही शहर का भू-माफिया सक्रिय हो गया है, जिसने अधिकारियों तथा सत्ता पक्ष के राजनीतिज्ञों के साथ सम्पर्क करना शुरू कर दिया है। यह सब इसलिए किया जा रहा है कि अगर कोर्ट कॉम्पलैक्स की जगह फाइनल होती है तो आसपास की जमीनें कोलोनाइजर पहले ही खरीद लें ताकि मार्कीट या प्लाट तैयार कर महंगे भाव पर बेचे जा सकें। 

कमेटी जल्द करेगी तीनों गांवों का दौरा
सूत्रों ने बताया कि न्यायिक कॉम्पलैक्स के लिए गठित कमेटी जल्द ही मौके पर जाकर मुआयना करेगी। जमीन का टुकड़ा देखने के पश्चात कमेटी की सहमति से ही अगली कार्रवाई होगी। पता चला है कि कमेटी जो जमीन फाइनल करेगी उस जगह को सरकारी नियमों के मुताबिक एक्वायर किया जाएगा।

Related Stories:

RELATED मजीठिया के गिरने पर सुखबीर की 'SMILE' ! वीडियो में देखें