नौकरी चपरासी की, अप्लाई किया 3700 PhD धारकों ने

नई दिल्ली :देश के लोगों में सरकारी नौकरी पाने की चाह किस कदर बढ़ रही है इस बात का अंदाजा इस बात से लागाया जा सकता है कि पुलिस विभाग में चपरासी/संदेशवाहक के 62 पदों पर नियुक्ति के लिए करीब 50 हजार ग्रैजुएट, 28 हजार पोस्ट ग्रैजुएट्स ने आवेदन किया है। इतना ही नहीं चपरासी बनने की कतार में 3700 पीएचडी (डॉक्टरेट) धारक भी हैं। जबिक इस पद के लिए न्यूनतम योग्यता सिर्फ पांचवी पास रखी गई थी। मगर जिन लोगों ने आवेदन किया, उसे देख सिलेक्शन बोर्ड के लोग भी हैरान हैं।

प्राप्त जानकारी के अनुसार इन 62 पदों के लिए करीब 93,000 आवेदकों ने आवेदन किया है और इन उम्मीदवारों में ग्रैजुएट और पोस्ट ग्रैजुएट में भी बी.टेक और एमबीए किए लोग शामिल हैं।सिर्फ 7400 ही ऐसे हैं जिन्होंने पांचवीं से 12वीं के बीच पढ़ाई की है। पुलिस विभाग के सूत्रों के मुताबिक ये 62 पद पिछले करीब 12 सालों से खाली हैं। उन्होंने बताया, 'यह नौकरी मुख्य तौर पर डाकिए जैसी है। नियुक्ति व्यक्ति का काम पुलिस के टेलिकॉम डिपार्टमेंट से पत्र और डॉक्युमेंट एक ऑफिस से दूसरे ऑफिस पहुंचाने का होगा।' 

उम्मीदवारों के चयन के लिए होगा सिलेक्शन टेस्ट 
एक अधिकारी ने बताया, अब तक चयन के लिए हम आवेदकों से एक स्वघोषणा करवाते थे कि उन्हें साइकिल चलाना आता है। हालांकि इतनी बड़ी संख्या में ओवर एजुकेटेड लोगों के आवेदन करने के बाद हमें मजबूरन सिलेक्शन टेस्ट करवाना पड़ेगा। सीनियर अधिकारियों ने बताया कि इतनी बड़ी मात्रा में आवेदन का बड़ा कारण है मार्केट में जॉब का ना होना। यह पद फुल टाइम सरकारी नौकरी का है और शुरुआती सैलरी भी 20 हजार के आसपास है, शायद यही वजह है कि इतनी बड़ी संख्या में लोगों ने आवेदन किया है। हालांकि एडीजी (टेलिकॉम) पीके तिवारी का कहना है कि, 'यह अच्छा है कि इतनी बड़ी संख्या में बड़ी डिग्री धारकों ने आवेदन किया है। हम उन्हें अन्य कामों में भी लगा सकेंगे। टेक्निकल कैंडिडेट्स को जल्दी प्रमोशन भी मिलेंगे और वह हमारे विभाग के लिए बेहद उपयोगी साबित होंगे।' उन्होंने बताया कि इस बार से टेस्ट का पैटर्न बदला जा रहा है। टेस्ट में जनरल नॉलेज, बेसिक मैथ्स और रीजनिंग के सवाल होंगे। 

Related Stories:

RELATED DRDO में निकली नौकरी, जल्द करें अप्लाई