Video: जश्न-ए-गरीब नवाज़ में देखने को मिली कौमी एकता की मिसाल

दमोह: देश के महान सूफी संत हज़रत ख़्वाजा मुइनुद्दीन हसन चिश्ती ख़्वाजा ग़रीब नवाज का सालाना उर्स राजस्थान के अजमेर में होने जा रहा है। इस मौके पर दमोह में जश्ने गरीब नवाज़ मनाया गया। जिसमे क़ौमी एकता की मिसाल देखने मिली तो वही तिरंगे की शक्ल में शामिल चादर आकर्षण का केंद्र रही।



जानकारी के अनुसार, राजस्थान के अजमेर में स्थित दरगाह महान सूफी संत हजरत ख़्वाजा मुईनुद्दीन हसन चिश्ती साहब का सालाना उर्स मनाया जाता है। जहां देश और दुनियां से जायरीन पहुंचकर ख़्वाजा साहब की चौखट पर श्रद्धा के फूल और चादर चढ़ाते है। जिसका जश्न सारे देश मे मनाया जाता है। दमोह में भी " जश्ने गरीब नवाज" मनाया गया। इस मौके पर मुस्लिम बाहुल्य क्षेत्रों से विशाल चादर जुलूस दमोह शहर की सड़कों से निकला।



इस जुलूस की ख़ास बात ये रही कि ख़्वाजा साहब के चादर जुलूस में कौमी एकता की अजब मिशाल देखने मिली। जिसमें सभी धर्म जाति के लोग शामिल हुए और अपने हाथों से चादर लेकर शहर की सड़कों से गुजरे। जुलूस में 20 से 40 फुट तक कि चादर शामिल हुई ,जिसका जगह-जगह स्वागत किया गया। महान सूफी संत ख्वाजा अजमेरी को सारा देश सुल्तानुल हिन्द ख़्वाजा ग़रीब नवाज़ के नाम से भी जनता है। जिनके मानने वाले देश और दुनियां में हर जगह मौजूद है। मान्यता है कि ख़्वाजा साहब सभी की मुरादे पूरी करते है ।

Related Stories:

RELATED महिला की बेरहमी से पिटाई का Video Viral