आईटी कंपनियों ने साइबर सुरक्षा को चाक-चौबंद बताया, कहा डेटा में सेंध नहीं

नई दिल्ली: आईटी कंपनियों द्वारा साइबर सुरक्षा को लेकर बड़ा ब्यान दिया है। सूचना-प्रौद्योगिकी क्षेत्र की प्रमुख कंपनियों इन्फोसिस एवं कॉग्निजेंट का कहना है कि उनके डेटा में किसी तरह की सेंध नहीं लगी है, और वह किसी भी तरह के साइबर हमले को लेकर चाक-चौबंद हैं।

साइबर सुरक्षा से जुड़े ब्लॉग कर्ब्सऑनसिक्योरिटी ने हाल में अपने एक पोस्ट में कहा था। नए साक्ष्यों से ऐसा प्रतीत हो रहा है कि पिछले महीने अपने डेटा में सेंध अभियान के तहत विप्रो के दर्जनों कर्मचारियों एवं 100 से अधिक कंप्यूटर प्रणालियों पर हमला करने वालों ने लगता है कि इन्फोसिस एवं कॉग्निजेंट सहित अन्य कंपनियों को भी निशाना बनाया है।

ब्लॉग में कहा गया है कि ठीक-ठाक अनुभव वाला आपराधिक समूह गिफ्ट कार्ड के जरिए धोखाखड़ी पर ध्यान दे रहा है। इससे पहले कर्ब्सऑनसिक्योरिटी ने विप्रो की प्रणाली में सेंधमारी की सूचना दी थी और कहा था कि इसका इस्तेमाल उसके कुछ क्लाइंट पर हमले के लिए किया जा रहा है। इसके बाद विप्रो ने सूचित किया था कि उसके कुछ कर्मचारियों के खाते फिशिंग अभियान के तहत किये गए हमले से प्रभावित हुए हैं।

इस संबंध में संपर्क किये जाने पर इन्फोसिस ने ई-मेल के जरिए बयान जारी कर कहा है कि उसके नेटवर्क पर डेटा में सेंध लगाये जाने का कोई मामला प्रकाश में नहीं आया है। कॉग्निजेंट के प्रवक्ता ने कहा कि इस सप्ताह की शुरुआत में आपराधिक गतिविधियों के बारे में पता चलने के बाद कंपनी के सुरक्षा विशेषज्ञों ने तत्काल और उचित कार्रवाई की है। 

Related Stories:

RELATED सबसे ज्यादा खारिज हुए भारतीय IT कंपनियों के H-1B वीजा बढ़ाने के आवेदन