इस देश में लड़का-लड़की का एक टेबल पर बैठना बैन

जर्काता: बेशक भारत में सुप्रीम कोर्ट ने समलैंगिकता को अपराध श्रेणी से निकाल दिया है, लेकिन दुनिया में अब भी कई देश ऐसे हैं जहां इस मामले में कड़े कानून हैं. इंडोनेशिया उन्हीं देशों में से एक है।   दुनिया में सबसे बड़े मुस्लिम आबादी वाले इस देश में अब भी शरिया कानून के हिसाब से फैसले होते हैं।  यही कारण है कि यहां पर कई कानून महिलाओं के लिए बहुत कड़े हैं। यहां के एक प्रांत ने महिलाओं के संबंध में एक और कड़ा कानून लागू कर दिया है।

इंडोनेशिया के रूढ़िवादी समाजिक व्यवस्था वाले आसेह प्रांत में  की एक रीजेंसी ने अविवाहित जोड़ों को मेज साझा करने पर रोक लगा दी है। मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, मानवाधिकार कार्यकर्ताताओं ने कहा कि बिरूएन रीजेंसी के नए काननू में समलैंगिकों की खातिरदारी पर रोक है। इसके अलावा रात 9 बजे से महिलाओं के काम करने पर भी रोक है। मेयर सैफानुर द्वारा हस्ताक्षर किए गए नए कानून में महिलाएं अगर रिश्तेदार के साथ आती हैं तो उनको उनकी समय सीमा को नजरंदाज किया जा सकता है।

30 अगस्त को मंजूरी प्रदान किए गए कानून के अनुच्छेद 10 के अनुसार, शरिया कानून तोड़ने वाले ग्राहकों को वहां आने पर रोक है।इस कानून के तहत प्रतिबंधित के दायरे में लेस्बियन, गे, बाइसेक्सुअल या ट्रांसजेंडर ग्राहक आते हैं। कानून के अनुच्छेद 13 में रेखांकित किया गया है कि रिश्तेदार के साथ अगर नहीं हो तो पुरुष और महिला के एक साथ एक मेज पर खाने पर प्रतिबंध

Related Stories:

RELATED औरतों की तरह इन बातों पर मर्दों का भी टूटता है दिल