1984 सिख विरोधी दंगा मामला: आरोपी सज्‍जन कुमार को पीड़िता चाम कौर ने पहचाना

नई दिल्ली: पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की हत्या के बाद 1984 में भड़के सिख विरोधी दंगों के एक मामले में आरोपी कांग्रेस नेता और पूर्व सांसद सज्जन कुमार की मुश्किलें बढ़ सकती हैं। इन दंगों के एक गवाह चाम कौर ने शुक्रवार को पटियाल हाउस अदालत में कुमार की पहचान कर ली। न्यायाधीश पूनम भांबा की अदालत में सुनवाई के दौरान चाम कौर ने पूर्व सांसद की पहचान करते हुए कहा कि यही वह व्यक्ति है जिसने भीड़ को उकसाया था। इससे पहले एक अन्य गवाह शीला कौर भी श्री कुमार की पहचान कर चुकी है। मामले की अगली सुनवाई 20 दिसंबर को होगी। 

सज्जन कुमार कर रहे हैं आरोपों का सामना
इस मामले में कुमार और दो अन्य आरोपी हत्या और दंगों के आरोपों का सामना कर रहे हैं। पटियाला हाउस अदालत ने ही बुधवार को सिख विरोधी दंगों के एक मामले में दो लोगों को दोषी ठहराया जिन्हें पुलिस हिरासत में ले लिया गया है। गुरुवार को इस मामले में सजा के लिए सुनवाई होनी थी। अदालत के बाहर दोषियों के साथ हाथापाई और मारपीट हुई। इसे देखते कुमार भारी सुरक्षा के बीच अदालत पहुंचे थे। इस मामले में कुमार जमानत पर हैं। कौर ने 20 सितंबर को आरोप लगाया था कि उन्हें अदालत में गवाही देने से रोका जा रहा है। उन्होंने आज अदालत में याचिका दायर कर अपनी सुरक्षा की मांग भी की है। उनका कहना है कि उन्हें फोन पर धमकी दी जा रही है कि यदि अदालत में गवाही दी तो गंभीर परिणाम भुगतने होंगे। 

Related Stories:

RELATED 84 सिख विरोधी दंगेः सज्जन कुमार को सजा दिलवाने वाले गवाह ने बताई 'आंखों देखी'